Sep 28, 2016 · 1 min read

प्रतिध्वनि

कहते है हर शब्द की प्रतिध्वनि सुनाई देती है
मैने तो नित प्रेम कहा, क्यों फिर घृणा सुनाई देती है
इक पौधा रोपा मैने,खारे जल से सींच गये तुम
फूल की हर पंखुडी पे, शूल की नोंक दिखाई देती है
पा लिया सर्मपण ने मेरे ,पुरस्कार रूप मे तिरस्कार
हर श्वास मेरी तुझको ढेर बधाई देती है
अब पास नही ,आभास नहीं,मेरा कोईप्रयास नहीं
प्रीत के सुन्दर घर को भी, घृणा खन्डहर बना देती है

1 Like · 2 Comments · 244 Views
You may also like:
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
हे ईश्वर!
Anamika Singh
पिता
pradeep nagarwal
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
ऐ वतन!
Anamika Singh
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ईद"
Lohit Tamta
Loading...