Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*प्रतिज्ञा*

मन का दीप जलायेँगे
गीत खुशी के गायेँगे
फूलों सा बनकर के हम
इस जग को महकायेँगे
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

285 Views
You may also like:
सुन्दर घर
Buddha Prakash
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
Nurse An Angel
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr. Kishan Karigar
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संत की महिमा
Buddha Prakash
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...