Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author

प्रतिकार

*************** प्रतिकार (लघु कथा)*****************
*************************************************

रामू श्याम सेठ के यहाँ नौकर के रूप में ईमानदारी से कार्य करता था,जिस पर सेठ खुद से ज्यादा विश्वास करता था।सेठ के तीन लड़के थे,जो किसी बड़े शहर में डॉक्टरी का कोर्स कर रहे थे।रामू का एक ही लड़का था,जिसकी पढ़ाई का सारा खर्च सेठ जी उठा रहा था,जो कि हर क्षेत्र में बहुत ही होनहार था।समय बीतता गया,सेठ जी के तीनों लड़के डॉक्टर बन गए थे,जिनकी बीबियाँ भी डॉक्टर थी और उसके तीनों बेटे अपने अपने परिवारों के साथ माता पिता को अकेले छोड़कर अलग अलग शहरों में बस गए थे।सेठ जी अपनी पत्नी सुशील के साथ अपनी पुश्तेनी हवेली में ही रह रहा था,जिसकी रामू का परिवार बड़ी शिद्दत से हर प्रकार से देखभाल कर रहा था।सेठ जी का कोई भी बेटा उनकी खबर तक पूछने नही आता था,जिसका बुजर्ग दम्पति को बहुत ही ज्यादा दुख था,जिस कारण वे औलाद वाले होकर भी बे औलाद थे।इस बीच रामू का लड़का विनय भी पढ़कर जिले का कलेक्टर बन कर उसी गांव के जिले में तैनात हो गया था,जिसकी रामू व गांववालों को बहुत ज्यादा खुशी थी। जब विनय को अपने पिता जी के माध्यम से सेठ व उसके बेटों के बारे सारी कहानी का पता चला तो वो मानसिक रूप से काफी दुखी हुआ।सेठ सेठानी दोनो बीमार रहने लगे थे।विनय उसी वक्त गांव आया और सेठ की जमीन को ठेके पर दिलवाकर अपने माता पिता सहित सेठ सेठानी अपने शहर के सरकारी आलीशान बंगले में ले गया,जिसकी उसने उसकी पत्नी ने जी भर कर सेवा करके सेठ द्वारा उसके व उसके परिवार के प्रति किये गए कार्य का प्रतिकार चुका दिया था और सेठ ने भी मरते समय अपनी सारी जमीन -जायजाद,चल-अचल सम्पति विनय के नाम कर प्रतिकार शब्द की परिभाषा ओर सम्मानजनक बना दिया था।
***************************************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

1 Comment · 177 Views
You may also like:
तेरा ज़िक्र।
Taj Mohammad
You are my life.
Taj Mohammad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
ज़िंदगी पर भारी
Dr fauzia Naseem shad
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
ये दिल
Dr fauzia Naseem shad
महाकवि भवप्रीताक सुर सरदार नूनबेटनी बाबू
श्रीहर्ष आचार्य
मन की उलझने
Aditya Prakash
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
केंचुआ
Buddha Prakash
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...