Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author
Apr 26, 2022 · 2 min read

प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब

*चली गईं अनंत की यात्रा पर दो महान आत्माएँ*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
मृत्यु की कलुषता पता नहीं कितने कठोर प्रहार करने के लिए कटिबद्ध हो चली है ! आकाशवाणी रामपुर की एनाउंसर श्रीमती पल्लवी रॉय के निधन की सूचना से गहरा धक्का लगा । आपके पति और जेठ सक्सेना बंधुओं से मेरा अच्छा संपर्क था। शोक के अवसर पर उनके प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं हैं ।
*#पल्लवी_रॉय_जी* बेहद खुशमिजाज महिला थीं। सलीका उनके स्वभाव में बसा हुआ था । मधुर मुस्कान भुलाई नहीं जा सकती । रामपुर नुमाइश में नुमाइश के लोगो( Logo) का पुरस्कार – वितरण समारोह जब संभवतः एक – दो साल पहले चल रहा था ,तब उस समारोह का संचालन पल्लवी रॉय जी ने ही किया था । मैंने उनका संचालन देखा – सुना और मुग्ध हो गया था। शहद – भरी मीठी आवाज भुलाई नहीं जा सकती । अनेक अवसरों पर उनसे नमस्ते भी हुई । व्यक्तित्व प्रभावशाली था तथा अभी उन्हें अनंत ऊंचाइयों को छूना था । किंतु काल की क्रूरता देखिए ! अल्पायु में ही वह अनंत की यात्रा पर चली गईं। मुझे समाचार से बहुत दुख हो रहा है ।
#सीन_शीन_आलम_साहब* रामपुर में विद्वानों की अग्रणी पंक्ति के श्रेष्ठ व्यक्ति थे। उनका निधन बौद्धिक जगत के लिए एक गहरी क्षति है । आकाशवाणी रामपुर को जब 50 वर्ष पूरे हुए ,तब सीन शीन आलम साहब से मेरी दुआ – सलाम शायद पहली बार हुई थी । अत्यंत आत्मीय भाव से सीन शीन आलम साहब मिले थे और वही आत्मीयता रह – रह कर इस समय याद आ रही है । उनकी चार पंक्तियों से उनको याद कर रहा हूँ:-

*सब कहीं पीछे छूट – छाट गए*
*वो जमाने वो ठाट -बाट गए*

*कौन तोलेगा तुझको फूलों में*
*वो तराजू गई वो बाट गए*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

94 Views
You may also like:
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
अल्फाज़ ए ताज भाग-2
Taj Mohammad
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अश्रुपात्र... A glass of tears भाग - 4
Dr. Meenakshi Sharma
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
और मैं .....
AJAY PRASAD
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
पिता का दर्द
Nitu Sah
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️जिंदगी की सुबह✍️
"अशांत" शेखर
✍️तुम पुकार लो..!✍️
"अशांत" शेखर
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
Loading...