Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 11, 2017 · 1 min read

प्रक्रति ने हम सब पर उपकार किया है

प्रक्रति ने हम सब पर उपकार किया है
सुंदर सा जीवन देकर हमारा उद्धार किया है
प्रक्रति ने हमे बहुत कुछ दिया है
हमने प्रक्रति से सब कुछ छीन लिया है
ऊँचे-ऊँचे आशियाना बना धरती माँ का सीना चिर दिया है
अन्न उपजती धरती को बंजर कर छोड़ दिया है
नदियों के राह को मोड़ मनुष्यों ने झकझोर दिया है
टप टप बरसे नदिया ये कैसा प्रकोप किया है
पेड़ पौंधे जंगल से काट नंगा छोड़ दिया है
कंक्रीट पत्थर को खड़ा कर उनसे रिश्ता जोड़ लिया है
फल देने वालों पेड़ो को हे मूर्ख तूने काट दिया है
अपने स्वार्थ के लिए जंगल को उजाड़ दिया है
दमा बढ़ा है, धरती पर हवा को दूषित किया है
चतुर मनुष्य तू भी देख, प्रक्रति को तूने कितना शोषित किया है
उजड़ रही है धरती अपनी ये कैसा विकास किया है
मर रहे है सब भूखे प्यासे ये तूने ही विनाश किया है
हो रही है तबाही हर देश के कोने में
कभी बाढ़,तो कभी सुखा, बढ़ रही आपदाए
तुम्हारे विकसित होने में
हे मूर्ख क्यों अपने पैरो में कुल्हाड़ी मार रहा है
संभल जा वक्त पर, क्यों अस्तित्व अपना उजाड़ रहा है
बिमारी का पहाड़ आज तूने ही खड़ा किया ही
प्रक्रति से खेल तू ही बता ये कैसा विकास किया है

भूपेंद्र रावत
10 /09/2017

2 Likes · 1 Comment · 157 Views
You may also like:
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
पिता
Dr.Priya Soni Khare
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
Nurse An Angel
Buddha Prakash
Loading...