Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 5, 2017 · 1 min read

प्रकृति

शिखरिणी छंद ।

सघन वन ।
खोते अस्तित्व ।
भीगे नयन ।।

कैसे हो वर्षा ।
खत्म होते पेड़ ।
मन तरसा ।।

हमें है लोभ ।
तभी तो काटे वृक्ष ।
नहीं है शोक ।।

न छेड़ मुझे ।
प्रकृति हूँ,जीवन ।
देती हूँ तुझे ।।

पूछती नानी ।
पानी कहाँ से आये ।
सूखी हिमानी ।।

आरती लोहनी

1 Like · 367 Views
You may also like:
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
बोझ
आकांक्षा राय
Loading...