Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

प्रकृति ने ही हमें दिया , जल जैसा उपहार,

प्रकृति ने ही हमें दिया,जल जैसा उपहार,
हम हरियाली काट कर,मिटा रहे श्रृंगार

आसमान को ताकते , बेबस से ये नैन
गर्मी से झुलसा बदन , खोया मन का चैन

नदियों के इस देश में , प्यासी सी अब प्यास
बड़ी दरारे अब लिए , दिखती धरा उदास

अब आँखों की भीगती , नहीं दर्द से कोर
नफरत लालच स्वार्थ के, इसमें बैठे चोर
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: दोहा
2 Comments · 309 Views
You may also like:
प्रेम गीत पर नृत्य करें सब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों...
Manisha Manjari
एक प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
" लहर मेरे मन की "
Dr Meenu Poonia
■ मुक्तक / सियासी भाड़
*Author प्रणय प्रभात*
दिल और चेहरा
shabina. Naaz
अपने पल्ले कुछ नहीं पड़ता
Shekhar Chandra Mitra
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
💐💐मेरा इश्क़ बे-ग़रज़ नहीं है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुकून
Harshvardhan "आवारा"
हाथों में उसके कंगन
VINOD KUMAR CHAUHAN
यह तो हालात है
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी आरज़ू होती है ......................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ताज़गी
Shivkumar Bilagrami
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
एक पंछी
Shiv kumar Barman
दर्द
Buddha Prakash
सुकुने अहसास।
Taj Mohammad
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
खंड: 1
Rambali Mishra
हम स्वार्थी मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
दस्तूर
Rashmi Sanjay
लक्ष्मी बाई [एक अमर कहानी]
Dheerendra Panchal
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
बेटियां
Shriyansh Gupta
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
सरदार पटेल( दो दोहे )
Ravi Prakash
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
Loading...