Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 12, 2016 · 1 min read

‘        प्रकृति चित्रण     

विष्णुपद छंद
प्रकृति चित्रण

भोर हुए जो लाली नभ में,दिनकर है भरता।
देख उसे मन मेरा चहका,दिनभर है रहता।
संध्या को भी वो ही लाली,नभ सुंदर करती।
देख वही सुंदरता नारी,नख शिख मद भरती।

चाँद-चाँदनी प्रेमांकुर को,रोपित जब करते।
टिम -टिम करते तारे नभ में,प्रेम रंग भरते।
खुले आसमाँ के नीचे तब,प्रीत कमल खिलता।
साजन सजनी के अधरों से,अधर मिला मिलता।

शीतल शांत सरोवर जल में,श्वेत चाँद चमके।
मंद समीर सुगंध बिखेरे,नयन काम दमके।
झीना आँचल भेद चाँदनी,सुंदरता निरखे।
सजनी का मन कितना चंचल,साजन ये परखे।

नीम निमोरी पग से चटकें,गुलमोहर महके।
रिमझिम बरस रही है बरखा,दादुर भी बहकें।
सजनी की भीगी जुल्फों से,मोती जब टपकें।
हर मोती मुखड़े पर निखरे,पलक नहीँ झपके।

रह रह कर चमके जो बिजली,जियरा है धड़के।
साजन की बाहों में सजनी,चुनरी भी सरके।
चमक चमक चमकें हैं जुगनू,कोयल कूक रही।
साजन सजनी के मन में उठ,चंचल हूक रही।

काले काले बदरा नभ में,रह रह गरज रहे।
ऊँचे पर्वत की चोटी पर,जम कर बरस रहे।
पत्ता पत्ता खड़क रहा है,बरखा यूँ बरसे।
चाँद चाँदनी से अपनी अब,मिलने को तरसे।

शांत सरोवर का जल भी अब,ऐसे उफन रहा।
बरखा की बूँदों को जैसे,कर वो नमन रहा।
प्रीत पगी अँखियों से साजन,को चूमे सजनी।
देखा उनका प्यार जवाँ तो,झूम उठी रजनी।

‘ललित’
                  समाप्त

810 Views
You may also like:
दीपावली
Dr Meenu Poonia
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Crumbling Wall
Manisha Manjari
विनती
Anamika Singh
Born again with love...
Abhineet Mittal
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Rajiv Vishal
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
चल-चल रे मन
Anamika Singh
जो देखें उसमें
Dr.sima
Loading...