Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2020 · 1 min read

”प्रकृति का गुस्सा कोरोना”

बच्चे, वृद्ध, नौजवान बैठे थे
नव वर्ष 2020 आगमन के इंतजार में,
दस्तक कोरोना की मचा गई तबाही
बुरी तरह हिला मानव प्रकृति की मार में।
दिखे वहीं सिर्फ मार्मिक हाहाकार
सुना मंजर पसरा नगर नगर में,
चपेट में आए गांव और ढाणी भी
मूक ताला लगा देश विदेश भ्रमण में।
सबके कदम अनायास ही रुक गए
चाह कर भी बाहर निकल ना पाएं,
भय का वातावरण सबको हुआ महसूस
खुली हवा में सांस भी ना ले पाएं।
किसी ने कहा दुर्लभ वायरस इसे
कोई इसे संक्रमण का खतरा बताए,
मीनू ने नाम दिया इसे प्रकृति की मार
जो आज हम सब को भुगतनी पड़ जाए।
नहीं रखा ध्यान हमने प्रकृति का
तभी तो आज घुटना पड़ गया,
वायरस संक्रमण तो बस बहाना है
गुस्सा प्रकृति का कोरोना जिद्द पर अड़ गया।
डॉ मीनू पूनिया, जयपुर राजस्थान

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 26 Comments · 542 Views
You may also like:
अहसान मानता हूं।
Taj Mohammad
✍️ मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
बुद्ध कहते हैं
Shekhar Chandra Mitra
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
'दीपक-चोर'?
पंकज कुमार कर्ण
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
gurudeenverma198
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल की आवाज़
Dr fauzia Naseem shad
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
कोटेशन ऑफ डॉ. सीमा
Dr.sima
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
कब तुम?
Pradyumna
Rainbow (indradhanush)
Nupur Pathak
*प्रदूषण : पॉंच शेर*
Ravi Prakash
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डर
Sushil chauhan
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
मैं सुहागन तेरे कारण
Ashish Kumar
शुक्र ए खुदा
shabina. Naaz
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
Loading...