Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Dec 23, 2020 · 1 min read

”प्रकृति का गुस्सा कोरोना”

बच्चे, वृद्ध, नौजवान बैठे थे
नव वर्ष 2020 आगमन के इंतजार में,
दस्तक कोरोना की मचा गई तबाही
बुरी तरह हिला मानव प्रकृति की मार में।
दिखे वहीं सिर्फ मार्मिक हाहाकार
सुना मंजर पसरा नगर नगर में,
चपेट में आए गांव और ढाणी भी
मूक ताला लगा देश विदेश भ्रमण में।
सबके कदम अनायास ही रुक गए
चाह कर भी बाहर निकल ना पाएं,
भय का वातावरण सबको हुआ महसूस
खुली हवा में सांस भी ना ले पाएं।
किसी ने कहा दुर्लभ वायरस इसे
कोई इसे संक्रमण का खतरा बताए,
मीनू ने नाम दिया इसे प्रकृति की मार
जो आज हम सब को भुगतनी पड़ जाए।
नहीं रखा ध्यान हमने प्रकृति का
तभी तो आज घुटना पड़ गया,
वायरस संक्रमण तो बस बहाना है
गुस्सा प्रकृति का कोरोना जिद्द पर अड़ गया।
डॉ मीनू पूनिया, जयपुर राजस्थान

8 Likes · 26 Comments · 454 Views
You may also like:
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
गधा
Buddha Prakash
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
" आशा की एक किरण "
DrLakshman Jha Parimal
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Angad tiwari
Angad Tiwari
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
तुम्हारी जुदाई ने।
Taj Mohammad
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
राष्ट्रीय ध्वज का इतिहास
Ram Krishan Rastogi
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
पर्व यूं ही खुशी के
Dr fauzia Naseem shad
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
'अशांत' शेखर
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
अपना राह तुम खुद बनाओ
Anamika Singh
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
परवाह
Anamika Singh
Loading...