Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author
May 20, 2022 · 1 min read

प्रकृति का उपहार

प्रकृति ने जो हमें उपहार दिया है,
तुम इसको न गँवाओ।
न काटो तुम पेड़ को,
न इसको तुम रूलाओ।
कितने फल देते यह हमको,
तुम इसका मजा उठाओ।
फूल खिलाओ चारो तरफ तुम,
इससे घर-आँगन को सजाओ।

न जाने यह पेड़ कितने
जीव-जन्तुओं का डेरा है,
न जाने कितने पक्षियों ने
डाला इस पर बसेरा है ।
इसको काटकर न तुम,
इन सबके संसार को मिटाओ।
पेड़ लगाओं चारों तरफ ,
तुम इसको और बढ़ाओ।

कितने जीवों का न जाने
इससे जीवन चलता है,
हम सब को ऑक्सीजन भी,
तो इससे ही मिलता है।
गर्मी से राहत भी तो
पेड़ ही हमको देता है।
बारिश को धरती पर
पेड़ ही लेकर आता है।

इसलिए तुम चारो तरफ,
हरियाली को फैलाओ।
इस हरियाली से तुम
अपने जीवन को हरियाओ।
इसके साथ बैठकर तुम
जीवन का लुफ्त उठाओ।

यह प्रकृति से हमें मिला हुआ
जीवन का अनमोल वरदान है।
इसको पूरे दिल से तुम
अपने जीवन में अपनाओ।
इसको अपने जीवन का
अहम हिस्सा तुम बनाओ।
धरती पर जीवन के लिए
तुम अब पेड़ बचाओ।
पेड़ लगाओ,पेड़ लगाओ,
बस,पेड़ लगाते ही जाओ ।

~अनामिका

3 Likes · 4 Comments · 69 Views
You may also like:
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुन री पवन।
Taj Mohammad
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ये माला के जंगल
Rita Singh
Fast Food
Buddha Prakash
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
बचपन की यादें।
Anamika Singh
प्यार
Satish Arya 6800
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
Loading...