Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2022 · 1 min read

प्यार

जिन्दगी के सफर में,
सिर्फ हाथ थाम कर
एक साथ कदम मिलाकर ,
सफर के लिए चल देना ही
प्यार नहीं होता है।
प्यार में एक-दूसरे की
जज्बात को समझना,
और एक-दूसरे की रूह तक
पहुंचना भी जरूरी होता है।

अनामिका

7 Likes · 6 Comments · 140 Views
You may also like:
ज़ाफ़रानी
Anoop 'Samar'
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
बेटी बचाओ
Shekhar Chandra Mitra
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
जगदीश शर्मा सहज
पहचान के पर अपने उड़ जाना आसमाँ में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धार्मिक बनाम धर्मशील
Shivkumar Bilagrami
इन्सान
Seema 'Tu hai na'
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
छठ महापर्व
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
🌺🍀दोषा: च एतेषां सत्ता🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिकायत से लिखी अब तख्तियां अच्छी नहीं लगती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
*नीड़ ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
जवाब दो
shabina. Naaz
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
गाँव के दुलारे
जय लगन कुमार हैप्पी
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...