Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2022 · 1 min read

प्यार

मैं बेनूर नहीं होता, गर मेरे साथ तेरा कंधा होता !
जिला देता वो मुझे, गर मेरा प्यार अंधा ना होता !

Language: Hindi
Tag: कविता
100 Views
You may also like:
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
💐अशान्ति: अवश्यमेव नष्ट: भविष्यति,कदा??💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
//... कैसे हो भैया ...//
Chinta netam " मन "
■ आज का गहन शोध
*प्रणय प्रभात*
"अच्छी आदत रोज की"
Dushyant Kumar
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
प्रयत्न लाघव और हिंदी भाषा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सपेरा
Buddha Prakash
बुद्धिजीवियों के आईने में गाँधी-जिन्ना सम्बन्ध
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
२४२. पर्व अनोखा
MSW Sunil SainiCENA
उजड़ती वने
AMRESH KUMAR VERMA
टूटता तारा
Ashish Kumar
" की बोर्ड "
Dr Meenu Poonia
नारी एक कल्पवृक्ष
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
श्री महेंद्र प्रसाद गुप्त जी (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
बुलंदी
shabina. Naaz
पिया मिलन की आस
Dr. Girish Chandra Agarwal
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
चालीसा
Anurag pandey
मुल्क के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
क्यों इतना मुश्किल है
Kaur Surinder
नवगीत - पहचान लेते थे
Mahendra Narayan
जिन्दगी कागज़ की कश्ती।
Taj Mohammad
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
प़थम स्वतंत्रता संग्राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुस्तक समीक्षा : सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
Loading...