Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2022 · 1 min read

प्यार

इस जमाने में जिसके दिल में भी थोड़ा सा प्यार है !
उसके लिए प्राणी क्या ? पूरी प्रकृति उसकी यार है !

Language: Hindi
2 Likes · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
sudhir kumar
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
"जन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
****मैं इक निर्झरिणी****
****मैं इक निर्झरिणी****
Kavita Chouhan
इबादत आपकी
इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
कब जुड़ता है टूट कर,
कब जुड़ता है टूट कर,
sushil sarna
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
मर्यादा, संघर्ष और ईमानदारी,
मर्यादा, संघर्ष और ईमानदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
कितना भी आवश्यक या जरूरी काम हो
शेखर सिंह
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
छोड़कर साथ हमसफ़र का,
Gouri tiwari
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
राजनीति के नशा में, मद्यपान की दशा में,
राजनीति के नशा में, मद्यपान की दशा में,
जगदीश शर्मा सहज
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
साल ये अतीत के,,,,
साल ये अतीत के,,,,
Shweta Soni
Loading...