Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“प्यार सिखाते हैं”

हम ज़िन्दगियों को बनाने का काम करते हैं,
प्यार सिखाते हैं,नफरतों को तमाम करते हैं !
शहर में , सहमा हुआ है हर एक आदमी,
चलो,गले मिल आयें सबके घर चलते हैं !
तेरी हुकूमत में, ये क्या क्या हो रहा है ,
रोज कई सूरज उगने से पहले ही ढलते हैं !
उनको मालूम नहीं है, वो अन्जान हैं “श्री”,
रोशनी के लिए,हम रोज शमां बन जलते हैं !

139 Views
You may also like:
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H. Amin
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कालचक्र
"अशांत" शेखर
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
संघर्ष
Arjun Chauhan
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
Loading...