Sep 13, 2016 · 1 min read

प्यार में जबसे मिली रुस्वाइयाँ

प्यार में जबसे मिली रुस्वाइयाँ
सूख ही दिल की गयी हैं क्यारियाँ

बादलों की आँख से आँसू झरे
देखकर नभ में तड़पती बिजलियाँ

प्यार तो करते बहुत हैं वो हमें
पर समझते ही नहीं मजबूरियाँ

वो बसे हर साँस में हैं इस तरह
भान होती ही न उनसे दूरियाँ

जब हवायें भी बदलने रुख लगीं
कुछ सुलग बैठी दबी चिंगारियाँ

फुसफुसाती रोज आकर कान में
आज भी उनकी लटकती बालियाँ

जो हिफाजत ‘अर्चना’ अपनी करें
वो हुआ करती नहीं पाबंदियाँ

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Comment · 211 Views
You may also like:
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
बुध्द गीत
Buddha Prakash
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
प्यार
Swami Ganganiya
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
Loading...