Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2023 · 1 min read

प्यार की कस्ती पे

प्यार की कश्ती पे होकर सवार साथ चलने लगे,
पथरीली राहों पे भी तुम संग चलने लगे,

कभी सुख तो कभी दुःख का सैलाब आया,
हाथ तेरा हाथों में लेकर बेफ़िकर होकर चलने लगे।

कुछ सपनों को भूल नये सपने सजाने लगे,
प्यार से अपने प्यार का आशियाँ बनाने लगे,

नादानियों से मेरी कई बार ज़िंदगी में तूफ़ाँ आया,
सच्चे प्यार के विश्वास से हम तुम बस चलने लगे।

हम तुम दो जिस्म एक जान बनकर चलने लगे,
नये सपनों को पूरा करने फलक पे उड़ने लगे,

राह में कई बार सपनों के टूटने पर दिल भर आया,
पर उम्मीद और विश्वास से हम दोनों फिर से चलने लगे।

सावन में भीगते हुए एक दूसरे में खोने लगे,
प्यार का ये जादू खुद पर ही आज़माने लगे,

अहम का ये कैसा तूफ़ाँ जीवन में आया,
पर समझदारी और प्यार से फिर साथ चलने लगे।

दौलत और शोहरत को पाने साथ साथ चलने लगे,
कश्मकश भरी उलझनों को बार बार सुलझाने लगे,

मेरी आँखों में जब तेरा ही अक्स मुझे नज़र आया,
तुझमें समाकर हम बनकर साथ साथ चलने लगे।

शिवकुमार बर्मन ✍️

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना पूंछता है।
जमाना पूंछता है।
Taj Mohammad
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
'अशांत' शेखर
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
भांगड़ा पा ले
भांगड़ा पा ले
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शाम
शाम
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
पढ़ना सीखो, बेटी
पढ़ना सीखो, बेटी
Shekhar Chandra Mitra
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
अब कितना कुछ और सहा जाए-
अब कितना कुछ और सहा जाए-
डी. के. निवातिया
"सस्ते" लोगों से
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-175💐
💐प्रेम कौतुक-175💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कण कण में शंकर
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
The_dk_poetry
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
सोच की निर्बलता
सोच की निर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
निकल गया सो निकल गया
निकल गया सो निकल गया
TARAN SINGH VERMA
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
इच्छा-मृत्यु (बाल कविता)
इच्छा-मृत्यु (बाल कविता)
Ravi Prakash
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...