Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 16, 2022 · 2 min read

प्यार, इश्क, मुहब्बत…

सुनो,
तुम से कुछ कहना हैं,

इश्क, मुहब्बत, प्यार
बस एक तरफा ही जान पाये हो ना ..

हाँ जरूँर ही कहोगे तुम,
बहुत खुबसुरत बलाओं से जो मिले थे तुम,

रूप रंग के जाल में ही ठहरें रहें तुम,
हाथों को छुआ होगा, नजरें भर के भी देखा होगा,

फिर भी यकीन से कह सकोगे,
क्या वहीं मुहब्बत थी तुम्हारीं…….

क्या तुम कभी किसी मुहब्बत की परछाई को छूँ सके हो..

क्या कभी इश्क के झुल्फों की छाँव में
अपनी दिन भर की थकान मिटा सके हो ..

क्या किसी प्यार की आँखों ने
तुम्हारी आँखों में छुपे आँसूओं के दर्द को चुमा हैं..

क्या कभी किसी मुहब्बत ने तुम्हारी लड़खड़ाती आवाज में,
छुपे गम को अपनी आवाज के सहारें सँभाल लिया हो..

हर किसी के हाथों को थाम तो सकें हो तुम,

लेकिन किसी के छोटी उँगली से खुदकी छोटी उँगली को फँसाकर
पुरी दुनिया को पाया हैं..

नहीं ना…

तो तुम कैसे किसी मुहब्बत को जान सकोगे..

बिल्कुल ही नहीं ना..

जो फरेब तुम्हें मिला वहीं सीखा हैं तुमने,
वहीं लौटा रहें हो ..

दिल के सुकुन की तलाश में भटककर
खुद को ही मिटाते चले हो..

सुनो,
रूँक सको तो रूँक लो दो पल के लिए,

खुद को सिमटकर देख लो एक बार फिर,

मंजिल तो आस पास ही होगी
फिर भी ,

नजरों को चुराने की ये जो तुम्हारीं आदत हैं ना,
हर चीज से भागकर खुदको तनहाई में
ढकेल लेने की ये जो जिद्द हैं ना..

कहीं तुम्हें उम्रभर का राह से भटका मुसाफिर ना बनाकर रख दें….
#ks

1 Like · 1 Comment · 75 Views
You may also like:
पंचशील गीत
Buddha Prakash
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
पिता
Raju Gajbhiye
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता
Rajiv Vishal
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
* उदासी *
Dr. Alpa H. Amin
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
The Magical Darkness
Manisha Manjari
शब्दों से परे
Mahendra Rai
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
poem
पंकज ललितपुर
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
Loading...