Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 10, 2022 · 1 min read

‘प्यारी ऋतुएँ’

प्रकृति के देखो खेल अजब हैं,
इसके तो हर दृश्य ग़जब हैं।
प्रत्येक ऋतु होती अलबेली,
अपने में ही होती है पहेली।
आए ग्रीष्म तो छाया भाए,
हमने छायादार वृक्ष लगाए।
बरखा आई हरियाली लाई,
भांति-भांति की वनस्पति उग आई।
शरद की महिमा है अति निराली,
लाई दिवाली पकवानों की थाली।
हेमंत ओस बिंदु बिछाती चमकीले,
घास पात बनते छैल-छबीले।
शिशिर में मिलजुलकर तापें आग,
रेवड़ी गुड़ मूंगफली भुने अनाज।
बसंत राज के अंदाज अनोखे,
बाग-बगीचों के सजे झरोखे।
हर ऋतु का पाते हम अहसास,
जीवन में भर जाए है उल्लास।
हर ऋतु के रंग में रम जाएं,
भिन्न-भिन्न आनंद फिर पाएं।
स्वरचित एवं मौलिक
©® Gn

35 Views
You may also like:
लबों से मुस्करा देते है।
Taj Mohammad
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
योगा
Utsav Kumar Aarya
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️एक चूक...!✍️
'अशांत' शेखर
✍️ये जरुरी नहीं✍️
'अशांत' शेखर
ईद हो जायेगी।
Taj Mohammad
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
धरती की फरियाद
Anamika Singh
पिता
Ray's Gupta
दर्द की कलम।
Taj Mohammad
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
*एक शेर*
Ravi Prakash
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूख
Varun Singh Gautam
अभिलाषा
Anamika Singh
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
✍️शराफ़त✍️
'अशांत' शेखर
Loading...