#29 Trending Author
Jan 17, 2022 · 1 min read

पोल-पट्टी खोल देते हैं (गीतिका)

*पोल-पट्टी खोल देते हैं (गीतिका)*
■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
गृहस्थी की यह खुद ही पोल-पट्‌टी खोल देते हैं
मियाँ-बीबी को देखो जाने क्या-क्या बोल देते हैं
(2)
अगर संदेह करता कोई तो अवमानना होती
मगर जज खुद ही शक के रंग सौ-सौ घोल देते हैं
(3)
सड़क पर जाम अब उस ही जगह पर सिर्फ लगता है
जहाँ पर अच्छी सड़कों के लिए हम टोल देते हैं
(4)
तराजू के कहाँ पलड़े हैं करते फर्क चीजों में
रखो सोना या चाँदी एक-जैसा तोल देते हैं
(5)
कभी हम मंच पर खुशियाँ कभी गम बन के आते हैं
हमें मालिक हमारे चाहे जैसा रोल देते हैं
————————————————–
*रचयिताः रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा*
*रामपुर (उ.प्र) मो. 9997615451*

102 Views
You may also like:
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H.
# मां ...
Chinta netam मन
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
जो बीत गई।
Taj Mohammad
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
Loading...