Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

पैसों की ताकत के आगे गिरता हुआ जमीर मिला

सपनीली दुनियाँ मेँ यारों सपनें खूब मचलते देखे
रंग बदलती दूनियाँ देखी ,खुद को रंग बदलते देखा

सुबिधाभोगी को तो मैनें एक जगह पर जमते देख़ा
भूखों और गरीबोँ को तो दर दर मैनें चलते देखा

देखा हर मौसम में मैनें अपने बच्चों को कठिनाई में
मैनें टॉमी डॉगी शेरू को, खाते देखा पलते देखा

पैसों की ताकत के आगे गिरता हुआ जमीर मिला
कितना काम जरुरी हो पर उसको मैने टलते देखा

रिश्तें नातें प्यार की बातें ,इनको खूब सिसकते देखा
नए ज़माने के इस पल मेँ अपनों को भी छलते देखा

पैसों की ताकत के आगे गिरता हुआ जमीर मिला

मदन मोहन सक्सेना

168 Views
You may also like:
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
कर्म का मर्म
Pooja Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
माँ की याद
Meenakshi Nagar
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...