Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2022 · 1 min read

पैसा

पैसे की भूख ऐसी लगी
कि कमाने निकल गए ।
जब पैसा मिली तो
हाथ से रिश्ते निकल गए।
बच्चों के साथ रहने की
फुर्सत न मिल सकी।
जब फुर्सत मिली तो
बच्चे कमाने निकल गए।
पैसा पैसा कर के
रिश्ता चला गया।
जब पैसा हुआ तो
मैं अकेला पड़ गया।

सुशील कुमार चौहान
फारबिसगंज अररिया बिहार

4 Likes · 3 Comments · 109 Views
You may also like:
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
जन्म दिन की बधाई..... दोस्त को...
Dr.Alpa Amin
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
हो गई स्याह वह सुबह
gurudeenverma198
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
"अशांत" शेखर
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन
Mahendra Narayan
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
पूर्ण विराम से प्रश्नचिन्ह तक
Saraswati Bajpai
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
Loading...