Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 1 min read

#पूर्वा-बयार #

देखो-रे-देखो,
पूर्वा -बयार है आयो।
संग लायो,
काले मेघन के सायो।।

उमड़-घुमड़ बदरा
बरसन को आतूर,
तनिक धीरज धरो।
चिलचिलाती धूप कूँ ढ़ाँकत-ढ़ाँकत,
तीखा निदाघ देखो काफूर कियो।
शीतलता ही शीतलता लायो।
देखो-रे-देखो,
पूर्वा -बयार है आयो।।

ढ़ोलिकया बजाओ रे मृदंग बजाओ,
रे बजाओ रे मांदर।
बूँदन को छक खेलो,
फैलाओ रे चादर।
हवा मे पुष्प उड़ाओ,
आयो रे आयो सावन- भादर।
गाओ रे गाओ मेघ-मल्हार,
एक दुजन को देवो रे आदर।
आज तो पुरा मन आनन्दित भयो।
देखो-रे-देखो,
पूर्वा -बयार है आयो।।

हरियाली छाई खेतन मे,
फसल म्हारो लहलहायो।
बूँदन के मद मे,
मन बावला फुदक-फुदक नाचे।
घिर-घिर गिरे जल तन मे रे,
काला-कलूटा देहिया के मैल धुल गयो।
देखो-रे-देखो,
पूर्वा -बयार है आयो।।

मलंग भया मन आज खूब.उछल-कूदो रे।
किसन-कन्हैया बनके,
गोपियन के संग झूमो।
वृक्षन की डारी धरी,
मधूर ध्वनियों में बाँसूरीया फूँको।
गैयन के संग वन-वन चलो,
सावन की मस्ती मेंं मतवाला बन ,
नृत्य पहाडिया करो,साज़ धरो।
बूँदन की लयकारी वीच,
सखियन संग रास रचो,आयो रे सावन आयो।
देखो-रे-देखो,
पूर्वा -बयार है आयो।।

मदिरा लाओ,जाम छलकाओ रे।
ओ भायो किसान दादा,
आज दिन आयो खासमखास,
पूरा भयो मन्नत, फसलन को नशीबो जन्नत।
बैल नारो रे,हल धरो रे हलधर।
सारे पशु-पक्षी झूमत-गाए,
नाचत फिरयं देखो जलचर।
मयूरा पंख पसारे नाचन लागे।
हीर-राँँझा गाच्छ तरे, प्रीत करे।
सावन राजा के स्वागत मे,
आज झूमो-नाचो-गाओ रे,भायो रे भायो।।
देखो-रे-देखो,
पूर्वा -बयार है आयो।।
••••••• ••••••• •••••••
••••••• ••••••• •••••••
स्वरचित कवि – नागेन्द्र नाथ महतो
(कवि, गीतकार, संगीतकार व गायक)
Youtube videos – n n mahto official
Copyrights:- Nagendra Nath mahto

6 Likes · 16 Comments · 328 Views
You may also like:
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
आज फिर
Rashmi Sanjay
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
ऐ उम्र
Anamika Singh
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
आने वाली नस्लों को बस यही बता देना।
सत्य कुमार प्रेमी
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
कलम बन जाऊंगा।
Taj Mohammad
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
बदलती परम्परा
Anamika Singh
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
Loading...