Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2022 · 1 min read

पूरे किसी मेयार पर उतरे नहीं कभी ।

पूरे किसी मेयार पर उतरे नहीं कभी ।
अपने वजूद में कहीं सिमटे हुए हैं हम ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

5 Likes · 61 Views
You may also like:
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तीन किताबें
Buddha Prakash
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे साथी!
Anamika Singh
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
बेरूखी
Anamika Singh
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...