Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।

ग़ज़ल

2122…….2122……..2122…….2122
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
रात दिन जो झेलता है, जहमतों को वो पिता है।

कोई भी डर जायेगा, दुनियां में इतनी मुश्किलो हैं,
चुटकियों में हल करें जो, मुश्किलों को वो पिता है।

वक्त की जब मार पड़ती, रोते हैं दुनियां के लोग,
जो दबा ले अपने अंदर, सिसकियों को वो पिता है।

खोजती है रास्तों को मंजिलें पाने को दुनियां,
जो बनाता मंजिलों तक, रास्तों को वो पिता है।

रात की ठिठुरन से बच्चों को बचाता हर तरह से,
खुद जो चादर में बिता दे,सर्दियों को वो पिता है।

आपसी मतभेद झगड़े औ’र लड़ाई घर में होते,
जो मिटा दे घर की सारी, नफ़रतों को वो पिता है।

प्यार में दिल टूटते हैं कितने ‘प्रेमी’ प्रेमिका के,
जोड़कर रखता है सबके ही दिलों को वो पिता है।

…….✍️ प्रेमी

1 Like · 38 Views
You may also like:
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
धर्म में पंडे, राजनीति में गुंडे जनता को भरमावें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो पत्थर
shabina. Naaz
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पूर्ण विराम से प्रश्नचिन्ह तक
Saraswati Bajpai
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️गलती ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यही आदत ही तो
gurudeenverma198
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
ए बदरी
Dhirendra Panchal
अल्फाज़ ए ताज भाग-1
Taj Mohammad
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
✍️ओर भी कुछ है जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
दिल भी
Dr fauzia Naseem shad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
धोखा
Anamika Singh
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...