Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2022 · 1 min read

पूनम की रात में चांद व चांदनी

चांद की चांदनी से बात भी होगी,
उनकी इस तन्हाई में बात भी होगी।
जब तक उनमें सच्चा प्यार न हो
फिर उनकी कैसे मुलाकात होगी।।

कल चांदनी रात हो की न हो,
कल सकुने हयात हो की न हो।
कुछ सुनूं और कहूं दिल के बात
फिर उनसे मुलाकात हो की न हो।।

मिलता है प्यार जिंदगी में एक बार
मिलेगा नही तुमको ये कभी बार बार।
मिलेगी नही ये जिंदगी तुमको दुबारा,
कर ले तू प्यार इस जिंदगी में एक बार।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 5 Comments · 204 Views
You may also like:
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किन्नर बेबसी कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
बाबू जी
Anoop Sonsi
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
Green Trees
Buddha Prakash
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
Loading...