Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2022 · 1 min read

#पूज्य पिता जी

पिता उजाला बन जीवन का, अँधियारा घोर मिटाए।
परिवार हेतु निज सुख भूले, हर चिंता दूर भगाए।।
माता धरती आकाश पिता, प्रतिपल में मंगलकारी।
स्नेह सुधा का पान कराए, निश्छल नित जीवन पारी।।

संतान चढ़े सोपान नये, फलीभूत संस्कारों में।
सोच पिता की कमी न छोड़ूँ, क्षणभर भी व्यवहारों में।।
माता दुख में रो देती है, हिम्मत पिता बढ़ाता है।
दर्द छिपाकर हँस लेता है, मरहम ख़ुद बन जाता है।।

भूल भुलाता संतानों की, अवसर अभिनव देता है।
नैनों की अभिलाषाओं को, पलभर में पढ़ लेता है।।
माँग-पूर्ति सम दम से करता, बच्चों के अरमानों की।
सहज सुघर जीवन देता है, चाल मोड़ तूफ़ानों की।।

कामयाब जब संतान बने, सीना चौड़ा हो जाता।
इसी ख़ुशी का गीत बनाकर, सबके आगे है गाता।।
सच्ची पूँजी औलाद यहाँ, वैभव मात्र छलावा है।
औलाद सही सब सही यहाँ, नेक पिता का दावा है।।

हृदय पिता का तोड़ न देना, पिता तुझे भी बनना है।
इसी अग्नि में एक दिवस फिर, काश! यादकर जलना है।।
आशीष पिता का पाकर हम, अंबर भी छू सकते हैं।
चलें दिखाई राहों पर जो, मंज़िल पर ही रुकते हैं।।

#आर.एस. ‘प्रीतम’
सर्वाधिकार सुरक्षित रचना

Language: Hindi
Tag: कविता
13 Likes · 20 Comments · 616 Views
You may also like:
मरने की इजाज़त
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" शीशी कहो या बोतल "
Dr Meenu Poonia
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*गीता की कर्म-मूलक दृष्टि के सक्रिय प्रवक्ता पंडित मुकुल शास्त्री...
Ravi Prakash
✍️ मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
ये अनुभवों की उपलब्धियां हीं तो, ज़िंदगी को सजातीं हैं।
Manisha Manjari
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
देव प्रबोधिनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
बचपन की यादें।
Anamika Singh
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
वो एक तवायफ थी।
Taj Mohammad
ख्वाबों को हकीकत में बदल दिया
कवि दीपक बवेजा
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
गीत
शेख़ जाफ़र खान
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
प्यार:एक ख्वाब
Nishant prakhar
खोपक पेरवा (लोकमैथिली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तंग नजरिए
shabina. Naaz
जीवन
vikash Kumar Nidan
किसने सोचा था कि
Shekhar Chandra Mitra
Loading...