Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पूंजीवाद में ही…

पूंजीवाद में ही रम गए हैं
सत्ता में बैठे सभी लोग
महंगाई का तोहफा दे रहे
उनके समस्त नए प्रयोग
आम आदमी अब ठगा सा
कर रहा है सोच विचार
क्या सिर्फ पूंजीपतियों के
लिए बनी देश की सरकार
राम जियावन व्यथित हैं
नित बढ़ती महंगाई से
दो जून की रोटी नहीं मिल पा
रही उनको अपनी कमाई से
बच्चों की बढ़ती फीस से हैं
बड़ी मुश्किल में राम किशोर
धन प्रबंध की खातिर करें
विनती किससे हाथ जोड़
सत्ता के प्रमुख कर्णधारों
को प्रभु शीघ्र देवें सन्मति
महंगाई पर नियंत्रण को
वो शीघ्र बनाएं सही नीति

74 Views
You may also like:
तरबूज का हाल
श्री रमण
मतदान का दौर
Anamika Singh
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
खींच तान
Saraswati Bajpai
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बदरिया
Dhirendra Panchal
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H. Amin
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
पिता का दर्द
Anamika Singh
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नई तकदीर
मनोज कर्ण
Loading...