Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author
Dec 6, 2021 · 5 min read

पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*

पुस्तक समीक्षा
*तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
*कवि का नाम : गिरिराज*
*प्रथम संस्करण प्रकाशन वर्ष : मई 1987*
*पता : गिरिराज ,चौढ़ेरा किला ,जिला बुलंदशहर (उत्तर प्रदेश)*
कुल पृष्ठ संख्या: 102
मूल्य ₹50
मुद्रक : शंकर प्रिंटिंग वर्क्स ,रामपुर (उ.प्र.)
कवि का परिचय (पुस्तक में अंकित) :
दिल्ली से लगभग 100 किलोमीटर पूर्व में बुलंदशहर जनपद के गांव चौढ़ेरा किला में दिनांक 24 फरवरी 1935 ईस्वी को जन्म, डिबाई ,चंदौसी और मेरठ में शिक्षा प्राप्त। आगरा विश्वविद्यालय से हिंदी में एम.ए., अंग्रेजी में एम.ए. पूर्वार्ध। संप्रति नैनीताल डिस्ट्रिक्ट कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड हल्द्वानी (नैनीताल) में जनरल मैनेजर के पद पर कार्यरत
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
समीक्षक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर(उ. प्र.)मोबाइल 9997615451
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
श्री गिरिराज का काव्य संग्रह _तुम्हारे नेह के बल से_ हृदय की भावनाओं को सुंदर शब्दों में आकार लिए हुए है । प्रेम के गीतों से यह काव्य संग्रह महक रहा है । पृष्ठ-पृष्ठ पर एक अनोखी सुगंध विद्यमान नजर आती है । कवि के जीवन की प्रेरणा यह प्रेम ही तो है । काव्य में प्रेम की उपस्थिति स्वाभाविक है । यह प्रेम ही तो है जो व्यक्ति को रसमय बना देता है। प्रिय का साथ जब एक बार मिल जाता है तो वह सारा जीवन अलग नहीं हो पाता । कभी प्रेम के साथ-साथ कवि साकार चलता है या कभी फिर उसकी स्मृतियों को अपने जीवन का संबल बना लेता है । _तुम्हारे नेह के बल से_ काव्य संग्रह में भी यह प्रवृत्ति प्रबलता के साथ देखने में आती है । प्रेम कवि के जीवन को सार्थकता प्रदान करता है और जीवन धन्य हो उठता है । पहला गीत प्रेम की इसी उर्वरा भाव भूमि पर लिखा गया है । कवि अपने प्रेम के प्रति समर्पित निष्ठा से धन्यवाद अर्पित कर रहा है :-

तुम्हारे नेह के बल से
उठे ऊपर धरातल से
नहीं तो नाम तक मेरा
न ले पाते अधर कोई
( प्रष्ठ 11 )
प्रेम के प्रति कवि का समर्पण अटूट है। वह प्रेम के प्रति नतमस्तक है । प्रेम ही उसके जीवन का आधार बन गया है। वह अपने प्रेम को अनंत और असीम राहों पर ले जाना चाहता है। उसकी इच्छा है कि प्रेम का यह सफर कभी समाप्त न हो । लेकिन उसे शरीर की विवशताओं का भली-भांति स्मरण है । वह जानता है कि देह की अपनी सीमाएं हैं। इसीलिए उसने इतने सुंदर ढंग से अपनी सीमाओं को स्वयं इंगित कर दिया है :-

मन करता है साथ निभाऊँ
इतनी उमर कहां से लाऊँ
जितना लंबा सफर तुम्हारा
मेरा उतना सफर नहीं है
(पृष्ठ 25)
प्रेम को कवि ने उच्च स्थान दिया है । वह अपने जीवन में सभी उपलब्धियों का श्रेय प्रिय को देता है और उसी के प्रति अपनी सारी सफलताओं को समर्पित कर देता है। यह समर्पण का भाव व्यक्ति को जहां एक ओर ऊँचा उठाता है ,वहीं स्वभाव की विनम्रता और दृष्टि की विशालता को भी दर्शाता है :-

एक जलाशय तुम्हें पा नदी हो गया
वरना किस्मत में उसकी समंदर न था
प्यार के तख्त पर तुमने आसन दिया
वरना किस्मत का मैं तो सिकंदर न था
(प्रष्ठ 19 )
गीतों के माध्यम से जहां प्रेम की अभिव्यक्ति कवि ने की है ,वहीं समाज-जीवन में आक्रोश का स्वर बुलंद करने में भी उसने कसर नहीं छोड़ी । इस दृष्टि से _बोल री मच्छी कित्ता पानी_ काव्य संग्रह की सर्वश्रेष्ठ रचना कही जा सकती है । इसमें कवि का एक सामाजिक चिंतक और सुधारक का रूप देखने में आ रहा है। वह राजनीति की प्रचलित धारा से भिन्न विचार रखता है और अपने गीत के माध्यम से उसे बड़े ही भोलेपन से साफ-साफ कह देता है। ऐसा कहने में वह बच्चों के बीच अक्सर बोली जाने वाली एक पुरानी लोकप्रिय पंक्ति _बोल री मच्छी कित्ता पानी_ की टेक का प्रयोग करता है । इस से कविता जानदार हो जाती है। संदेश बहुत प्रभावी है । कवि का आक्रोश देखने लायक है :-

सभी मस्त हैं अपनी धुन में
रहा न कोई अनुशासन में
मिले पँजीरी यह गदहों को
प्रतिभा भटके जन शासन में
राजनीति हो गई दीवानी
बोल री मच्छी कित्ता पानी
( पृष्ठ 55 )
जहां काव्य संग्रह में गीतों की छटा कवि ने बिखेरी है ,वहीं कुछ _अतुकांत कविताओं_ को भी संग्रह में शामिल किया गया है । अतुकांत कविताएं विचारशील मस्तिष्क की उपज होती हैं और उनके पढ़ने में कुछ वैचारिक ऊर्जा पाठकों को मिलती है। ऐसी ही एक रचना पर निगाह डालिए। रचना छोटी है लेकिन बहुत कुछ सोचने को बाध्य कर देती है :-

आपने मुझे आवाज दी ?
नहीं तो !
मैंने भी तो नहीं सुना ।
लगता है आप गूंगे हैं
और लगता है आप भी बहरे हैं।
मगर सच तो यह है –
हम सब गूंगे हैं
हम सब बहरे हैं ।
( पृष्ठ 80 )
पुस्तक के अंत में कुछ _मुक्तक_ हैं, जो विशेष रुप से ध्यान आकृष्ट करते हैं । इन में प्रवाह है और इनकी गेयता में पाठक खो जाता है । इन मुक्तकों की विशेषता यह है कि इन्हें जब भी पढ़ा जाएगा ,एक नई रोशनी मिलेगी और उम्मीद की एक नई किरण दरवाजे पर दस्तक देगी । दो मुक्तकों का आनंद उठाइए:-

खाक में रोज मिलती रही हस्तियाँ
और बदलती रहीं द्वार की तख्तियाँ
नागासाकी उजाड़ो या हीरोशिमा
हम बसाते रहेंगे नई बस्तियाँ
××××××××××××××××××××
तुम्हें हर लहर पर किनारा मिलेगा
तुम्हें हर किसी से सहारा मिलेगा
तुम्हारी नजर में अगर आरजू है
तुम्हें हर नजर से इशारा मिलेगा
(प्रष्ठ 96 और प्रष्ठ 97 )
कवि को न हिंदी के संस्कृतनिष्ठ शब्दों का प्रयोग करने में कोई हिचकिचाहट है और न ठेठ उर्दू के शब्दों को प्रयोग करने में वह हिचकिचाता है। स्वयं को अभिव्यक्त करने के लिए जिस शब्द को उसने उचित और उपयुक्त समझा ,उसका प्रयोग किया तथा संग्रह को प्राणवान बनाने के लिए भाषा उसकी दृष्टि में एक औजार की तरह इस्तेमाल हुई है । रोजमर्रा की जिंदगी में थके-हारे आदमी को जहां इस काव्य संग्रह को पढ़कर कुछ राहत भरे क्षण नसीब होंगे, वहीं युद्धरत आम आदमी के जीवन में नए उजाले इस काव्य संग्रह से भर सकेंगे। यही _तुम्हारे नेह के बल से_ की एक बड़ी उपलब्धि बन जाती है।
यह काव्य संग्रह पुस्तक श्री गिरिराज जी ने मुझे मुरादाबाद में उस समय चलते समय भेंट की थी ,जब मैं उनके निवास पर प्रसिद्ध कवि श्री नागार्जुन से भेंट करने के लिए गया था । *पुस्तक पर 11 अगस्त 1990 की तिथि सप्रेम भेंट के रूप में अंकित है ।* यह जहां एक ओर श्री गिरिराज जी की आत्मीयता को दर्शाती है ,वहीं दूसरी ओर श्री नागार्जुन से भेंट की तिथि को पुनः स्मरण भी करा देती है।

143 Views
You may also like:
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हनुमंता
Dhirendra Panchal
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
ये माला के जंगल
Rita Singh
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
हिंदी दोहा-टोपी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
फूल की महक
DESH RAJ
पिता
Santoshi devi
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
बुलबुला
मनोज शर्मा
✍️बुनियाद✍️
"अशांत" शेखर
Loading...