Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 23, 2022 · 1 min read

पुस्तकों की पीड़ा

दोहे
1
पाठक कोई ना रहा , लेखक की भरमार
बिकती है अश्लीलता, मोबाइल से प्यार
2
क्यों सच्चा साहित्य अब , बिकता नहि बाजार
तुलसी सूर कबीर की, वाणी हुई बेकार
3
पुस्तक सच्ची मित्र थी, हुई उपेक्षित आज
व्हाट्स ऐप और फेस बुक, का नाजायज राज
4
सभी पढ़ाना चाहते, पाठक मिला ना कोय
कबीर देख बाजार को , बार बार दे रो या
5
अच्छी पुस्तक जो पढ़े , उसका दूर तनाव

पैसा दे साहित्य की , पुस्तक तुरत मगाव

1 Like · 75 Views
You may also like:
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Vats
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आ जाओ राम।
Anamika Singh
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
की बात
AJAY PRASAD
आया आषाढ़
श्री रमण
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नदियों का दर्द
Anamika Singh
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
विसाले यार
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
Loading...