Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 26, 2022 · 1 min read

पुष्प की पीड़ा

संवेदनहीन हुआ मानव तो खत्म हुंई सब आशाएँ।
समझ नही पाया यह मानव मेरे मन की अभिलाषाएँ।

अभिलाषा थी वीरों के पाँव तले बिछ जाने की।
देश पे जान लुटाने की और देश के हित मिट जाने की।

पर निष्ठुरता मानव की देखो मेरी पीड़ा समझ न पाया।
जब चाहा प्रेयसी के गजरे में लगा खूब ही इतराया।

चोर उच्चके और लुटेरों पर भी मुझे लुटा डाला।
कभी कभी तो देशद्रोहियों के चरणों में मुझे बिछा डाला।

मुझे चढ़ा कर भगवानों पर मन चाहा वरदान लिया।
किंतु सदा प्रसन्न रहा मैं सदा सब्र से काम लिया।

टूट गया तब सब्र मेरा जब ऐसे भी अपमान हुआ।
मेरी माला गले डाल जब दुष्कर्मी का सम्मान हुआ।

इस तिरस्कार से अच्छा है अपना अस्तित्व मिटा डालूँ।
या खिलने से पहले माली से कह अपना शीश कटा डालूँ।

-रमाकान्त चौधरी
उत्तर प्रदेश।
(कविता, मौलिक स्वरचित अप्रकाशित है)

3 Likes · 2 Comments · 53 Views
You may also like:
अनामिका के विचार
Anamika Singh
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
💔💔...broken
Palak Shreya
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
पिता
Dr.Priya Soni Khare
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
बोझ
आकांक्षा राय
मेरे पापा
Anamika Singh
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
Loading...