Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 10, 2022 · 1 min read

पुरानी यादें

पुरानी यादों को आज,
मैंने फिर से निहारा है…..
बिखरे उन डायरी पन्नों को
आज मैंने फिर से संवारा है….
कैसे ..टेड़ी-मेढी शक़्ले बनाकर
हमनें हर तस्वीर को बिगाड़ा है..
जिसे पकड़, हम घुमते थे सारा दिन,
अरे! ये तो उसी आँचल का किनारा है..
भले ही खिलौना अब टूट चुका
मगर आज भी वो हमारा है..
उस रूमाल पे मेरे पाँव का निशान
लगता आज भी कितना प्यारा है..
वो काठ का महज एक संदूक नहीं
हमारी यादों का पिटारा है….
पुरानी यादों को आज,
मैंने फिर से निहारा है….
बिखरे उन डायरी पन्नों को
आज मैंने फिर से संवारा है….

✍ palakshreya

5 Likes · 3 Comments · 141 Views
You may also like:
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पल
sangeeta beniwal
If we could be together again...
Abhineet Mittal
कशमकश
Anamika Singh
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
झूला सजा दो
Buddha Prakash
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पिता
लक्ष्मी सिंह
Loading...