Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2022 · 1 min read

पुन: विभूषित हो धरती माँ ।

सभ्यता के शिखर पर पहुंचे हुए
हे मनुज पुत्रों तुम जरा देखो ठहर,
तेरी पालना व शीर्ष तक ले जाने में
और सुख समृद्धि के उपहार में,
तेरी मां के कितने गहने बिक चुके है ?
उसने तो सर्वस्व था तुम पर लुटाया
फिर ये जाने क्यों तुझे न याद आया ?
आज मां अति मलिन सी सम्मुख खड़ी
क्यों देखकर भी ग्लानि न तुझमें भरी ?
हां ये धरती मां वही है, गोद में जिसकी तुम खेले ।
इसके सब संसाधनों से जिंदगी में सारे मेले ।
वेदना ये मां की गहरी अब तो कुछ संज्ञान लो ।
कर धरा को फिर विभूषित मां से आशीर्वाद लो ।
लौटाओं इसकी हरीतिमा तरु, विटप, पल्लव
स्वच्छ संचित नीर के सब स्रोत दे दो ।
देखों इसकी प्राणवायु कम न हो अब
अति धीरता व बुद्धि से इस को सहेजो |
शोर कुछ तो कम करो संसाधनों का
ताकि फिर से मां की लोरी सुन सको ।
हो कर मां फिर पुनर्भूषित ढ़ेरों ही आशीष देगी।
तेरी नवागत पीढ़ियों को नवल सब उपहार देगी।

2 Likes · 4 Comments · 91 Views
You may also like:
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
बेटी को लेकर सोच बदल रहा है
Anamika Singh
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
पूरे किसी मेयार पर उतरे नहीं कभी ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️मोहसुख✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुझसे पहले क्या किसी ने
gurudeenverma198
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
Little sister
Buddha Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️जश्न-ए-चराग़ाँ✍️
'अशांत' शेखर
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
✍️ज्वालामुखी✍️
'अशांत' शेखर
यह इश्क है।
Taj Mohammad
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
मानवता
Dr.sima
दोस्ती का हर दिन ही
Dr fauzia Naseem shad
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
Loading...