Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2022 · 1 min read

पुन: विभूषित हो धरती माँ ।

सभ्यता के शिखर पर पहुंचे हुए
हे मनुज पुत्रों तुम जरा देखो ठहर,
तेरी पालना व शीर्ष तक ले जाने में
और सुख समृद्धि के उपहार में,
तेरी मां के कितने गहने बिक चुके है ?
उसने तो सर्वस्व था तुम पर लुटाया
फिर ये जाने क्यों तुझे न याद आया ?
आज मां अति मलिन सी सम्मुख खड़ी
क्यों देखकर भी ग्लानि न तुझमें भरी ?
हां ये धरती मां वही है, गोद में जिसकी तुम खेले ।
इसके सब संसाधनों से जिंदगी में सारे मेले ।
वेदना ये मां की गहरी अब तो कुछ संज्ञान लो ।
कर धरा को फिर विभूषित मां से आशीर्वाद लो ।
लौटाओं इसकी हरीतिमा तरु, विटप, पल्लव
स्वच्छ संचित नीर के सब स्रोत दे दो ।
देखों इसकी प्राणवायु कम न हो अब
अति धीरता व बुद्धि से इस को सहेजो |
शोर कुछ तो कम करो संसाधनों का
ताकि फिर से मां की लोरी सुन सको ।
हो कर मां फिर पुनर्भूषित ढ़ेरों ही आशीष देगी।
तेरी नवागत पीढ़ियों को नवल सब उपहार देगी।

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 4 Comments · 255 Views
You may also like:
परमात्मनः प्राप्तया: स्थानं हृदयम्
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिखरा था बस..
Vijay kumar Pandey
मंजिल दूर है
Varun Singh Gautam
पहले तेरे हाथों पर
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
वो पहलू में आयें तभी बात होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
■ लघुकथा / बस दो शब्द
*Author प्रणय प्रभात*
बचे हैं जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
" लज्जित आंखें "
Dr Meenu Poonia
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 10
Dr. Meenakshi Sharma
कलयुग में भी गोपियाँ कैसी फरियाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
रिश्ता
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
राम बनो!
Suraj kushwaha
जिंदगी भर का चैन ले गए।
Taj Mohammad
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर...
DrLakshman Jha Parimal
भूख
मनोज कर्ण
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईनाम
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
पहला प्यार
Pratibha Kumari
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
मौसम तो बस बहाना हुआ है
Kaur Surinder
कई सूर्य अस्त हो जाते हैं
कवि दीपक बवेजा
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
तानाशाहों की मौत
Shekhar Chandra Mitra
हे! राम
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️जश्न-ए-चराग़ाँ✍️
'अशांत' शेखर
*जरा उठे जो अहंकार ने झटपट आ जकड़ा है (हिंदी...
Ravi Prakash
✍️महज़ बातें ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...