Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2022 · 2 min read

पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़ी गईं दो

पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़ी गईं दो कविताऍं
—————————————————————–
*परम-पूजनीय नानाजी श्री राधेलाल अग्रवाल सर्राफ ( 18 जून 1908 — 18 जून 2008 )*
—————————————————————-
*घर के मुखिया पुण्य प्रणाम*
—————————————-
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम

जून अठारह सौ बरसों पहले जो शुभ आई थी
तपती हुई दुपहरी में तब शीतलता छाई थी
एक ज्योति को अन्धकार में उगते सबने देखा
खिंची कसौटी पर सुन्दर सोने की हो ज्यों रेखा
मिला आपसे निर्मलता का जग को नव-आयाम
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम

सात्विक जीवन जिया ,सादगी की पहचान बनाई
स्वाभिमान से भरे मान की रक्षा-रीति सिखाई
कभी न बोलो झूठ ,सत्य के पथ पर चलते जाना
रहो दूर छल-कपट भाव से सबको था बतलाना
याद आ रहा जीवन जो था शिव सुन्दर निष्काम
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम

जीवन जिया नेह से भरकर सबको नेह लुटाया
सबको निज समझा कुटम्ब का कोई नहीं पराया
भरी हुई आत्मीय भावना से सुन्दर मति पाई
वही संत है ,नहीं हृदय में जिसके कटुता आई
धन्य आपकी साधु-भावना मंगलमय अविराम
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम
—————————-
दिनांक 18 जून 2008
—————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451
————————————————————
————————————————————
*जन्मशती समारोह*
————————————————————
*परम पूजनीय नानाजी श्री राधे लाल अग्रवाल सर्राफ (मुरादाबाद)*
*( 18 जून 1908 – 18 जून 2008 )*
—————————————-
*जन्म-शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है*

कर्मवीर थे व्यापारी थे जिनकी अपनी शान थी
दूर-दूर तक उज्जवल छवि ही की जिनकी पहचान थी
सबसे मीठा सिर्फ बोलना जिनका शुभ्र स्वभाव था
कटुता का छल-कपट भाव का जिनमें रहा अभाव था
रहा सभी से जिनका जीवन भर निर्मल व्यवहार है
जन्म शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

आज आ रहे याद हमें वह दिन नानी घर जाते
गर्मी में छुट्टी के कुछ दिन हिलमिल जहाँ बिताते
हम बच्चे जो चीज मॉंगते हमको वही दिलाते
चाट-पकौड़ी खट्टा-मीठा भर-भर हमें खिलाते
उनकी ममता और नेह को बार-बार आभार है
जन्म शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

शहद घुला था बातों में,हॅंसते ही केवल देखा
कभी न त्यौरी चढ़ी रोष की खिंचती कोई रेखा
कभी खिलौने देते भर-भर ,कभी मिठाई लाते
लगता जैसे अलादीन का दिया पास रख जाते
नाना जी का अर्थ स्वयं में कल्पवृक्ष साकार है
जन्म-शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

याद आ रहे विष्णु-मामा याद आ रहीं नानी
याद आ रही चुन्नी-जीजी की सुधीर की वाणी
याद आ रहे वे दिन जब चिड़ियॉं गाना गाती थीं
नाना जी से सदा प्यार में नानी बढ़ जाती थीं
रोज बिछुड़ने का मिलने का मतलब यह संसार है
जन्म शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है
———————————
दिनांक 18 जून 2008
———————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

64 Views
You may also like:
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
✍️ते मोगऱ्याचे झाड होते✍️
'अशांत' शेखर
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
एक संकल्प
Aditya Prakash
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️आदत और हुनर✍️
'अशांत' शेखर
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घड़ी और समय
Buddha Prakash
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
Loading...