Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2021 · 1 min read

पुकारो कलम से..

5.4.2021

डुबो दो खुशी में, लिखो न उदासी।
तुम्हें फिर है लिखना कोई गीत साथी।।
भरो भावनाएं अलंकृत करो नेह,
पुकारो कलम से कोई मीत साथी।।

पुकारो कलम से कोई मीत साथी।।

गिरा है धरा पर कभी बीज कोई,
पनप के उगा है हृदय सीँच वो ही,
शब्दों की कोमल सुसंस्कृत करो देह,
विचारो मनन कर नई रीत साथी।।

पुकारो कलम से कोई मीत साथी।।

अगर याद बिछड़े कभी आ भी जायें,
पलक भीग जाये, अधर थरथरायें।
जगा लो नया दीप, उन्नत करो गेह,
बुला लो छुटे पथ में जो प्रीत-साथी।।

पुकारो कलम से कोई मीत साथी।।

रश्मि लहर
लखनऊ।

2 Likes · 212 Views
You may also like:
कुछ ना बाकी है उसकी नजरों से।
Taj Mohammad
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
या इलाही।
Taj Mohammad
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
इन्साफ
Alok Saxena
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
मेरे वतन मेरे चमन ,तुम पर हम कुर्बान है
gurudeenverma198
दया***
Prabhavari Jha
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
रुक क्यों जाता हैं
Taran Singh Verma
बाल कविता —टेडी बेयर
लक्ष्मी सिंह
आस्तित्व नही बदलता है!
Anamika Singh
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
भुला दो मुझको
Dr fauzia Naseem shad
✍️कल..आज..कल..✍️
'अशांत' शेखर
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
अल्फाजों में लिख दिया है।
Taj Mohammad
मेरा परिवार
Anamika Singh
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...