पीट कर मुझे तुम मर्द बनते हो

पीट कर मुझे तुम मर्द बनते हो, तनते हो मेरे ही सामने,
भूल गए उन वचनों को दिए थे जब आये थे हाथ थामने।

असली मर्दानगी मुझ पर हाथ उठाने में नहीं है जान लो,
अपनी कमी छिपाने को पीटते हो कायर हो तुम मान लो।

असली मर्द कौन होता है आओ तुम्हें मैं खोलकर बताऊँ,
कैसा होता है असली मर्द आज तुम्हें विस्तार से समझाऊँ।

सात फेरों के सातों वचनों को जो हर परिस्थिति में निभाये,
मान मर्यादा की रक्षा के लिए जो मौत से भी टकरा जाये।

उसके पेट को रोटी, तन को कपड़ा और दे छत सिर को,
मोती समझ व्यर्थ ना जाने दे जो उसके नैनों के नीर को।

प्रेमरस की बरसात करे, पल भर में गलती को माफ़ करे,
गृहलक्ष्मी समझ अपनी पत्नी को खुशियाँ जीवन में भरे।

असली मर्द पराई औरत को समझे माता, बहन के समान,
सुलक्षणा की बातों से टुटा या नहीं मर्द होने का अभिमान।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 182 Views
You may also like:
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H.
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
**नसीब**
Dr. Alpa H.
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
पिता
Ram Krishan Rastogi
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
याद आते हैं।
Taj Mohammad
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
मन
शेख़ जाफ़र खान
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
जल की अहमियत
Utsav Kumar Vats
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
# स्त्रियां ...
Chinta netam मन
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
Loading...