Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2022 · 1 min read

पितृ वंदना

पितृ वंदना
~~°~~°~~°
नमन करें सभी पितृचरणों का,जो जग का आधार है,
पूर्ण हो जाए संतति आकांक्षा,मिलती खुशियांँ अपार है,
शीश झुकाएं चरणों में उनके,मंजिल फिर होती कदमों में,
अपनाएं जो आदर्शों को उनके,सहज ही सुख संसार है।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

आए जब नन्हें बालक थे,चलना पिता ने सिखलाया था,
रोते जो बलखा के हम थे,मन को उसने ही बहलाया था,
सोचो तो वो सारे नखरे, हर जिद कैसे पूरी होती थी,
पितृच्छाया में बीता बचपन,वो अनुपम अनंत अविकार है।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

पिता का दिल मोम सा है,पिघलाना कभी ना ज्ञान की लौ से,
अदब से ही तुम बातें करना,टकराना न निज अहं को उनसे,
पिता की नसीहतों से ही खुलता,संतानों का किस्मत द्वार है,
बढ़े चलो भवचक्र के दुर्गम पथ पर,पिता तो खेवनहार है ।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

पिता की मजबूरियां तो समझो,क्या है उनकी दुश्वारियां ,
शरीर जब निस्तेज पड़ा हो,पकड़ो अब,तुम भी अंगुलियाँ,
दिखते क्यों वृद्धाश्रम अब तो,ये कैसा कलुषित संस्कार है,
संतति फर्ज़ निभाना होगा,नहीं तो जग में आना बेकार है।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १९ /०४ /२०२२

Language: Hindi
Tag: कविता
24 Likes · 37 Comments · 902 Views
You may also like:
जय माता की
Pooja Singh
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
फिजूल।
Taj Mohammad
कहानी
Pakhi Jain
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
पथ जीवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
करीं हम छठ के बरतिया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
अपराधी कौन
Manu Vashistha
लोग आपन त सभे कहाते नू बा
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
✍️चीरफाड़✍️
'अशांत' शेखर
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
अल्फ़ाज
निकेश कुमार ठाकुर
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्षमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेबस-मन
विजय कुमार नामदेव
माटी - गीत
Shiva Awasthi
मनु के वंशज
Shekhar Chandra Mitra
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
*रावण रामचंद्र ने मारा (गीत )*
Ravi Prakash
"कश्मकश जिंदगी की"
Dr Meenu Poonia
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
Loading...