Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 19, 2022 · 1 min read

पितृ वंदना

पितृ वंदना
~~°~~°~~°
नमन करें सभी पितृचरणों का,जो जग का आधार है,
पूर्ण हो जाए संतति आकांक्षा,मिलती खुशियांँ अपार है,
शीश झुकाएं चरणों में उनके,मंजिल फिर होती कदमों में,
अपनाएं जो आदर्शों को उनके,सहज ही सुख संसार है।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

आए जब नन्हें बालक थे,चलना पिता ने सिखलाया था,
रोते जो बलखा के हम थे,मन को उसने ही बहलाया था,
सोचो तो वो सारे नखरे, हर जिद कैसे पूरी होती थी,
पितृच्छाया में बीता बचपन,वो अनुपम अनंत अविकार है।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

पिता का दिल मोम सा है,पिघलाना कभी ना ज्ञान की लौ से,
अदब से ही तुम बातें करना,टकराना न निज अहं को उनसे,
पिता की नसीहतों से ही खुलता,संतानों का किस्मत द्वार है,
बढ़े चलो भवचक्र के दुर्गम पथ पर,पिता तो खेवनहार है ।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

पिता की मजबूरियां तो समझो,क्या है उनकी दुश्वारियां ,
शरीर जब निस्तेज पड़ा हो,पकड़ो अब,तुम भी अंगुलियाँ,
दिखते क्यों वृद्धाश्रम अब तो,ये कैसा कलुषित संस्कार है,
संतति फर्ज़ निभाना होगा,नहीं तो जग में आना बेकार है।

नमन करें सभी पितृचरणों का ,जो जग का आधार है…

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १९ /०४ /२०२२

24 Likes · 37 Comments · 660 Views
You may also like:
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
✍️तंगदिली✍️
"अशांत" शेखर
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
दीपावली
Dr Meenu Poonia
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
वसंत का संदेश
Anamika Singh
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
.✍️वो पलाश के फूल...!✍️
"अशांत" शेखर
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
Loading...