Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 19, 2022 · 1 min read

पितृ ऋण

याद आते है, बचपन के वो दिन, जब उनकी उँगली पकड़ हम सैर पर जाते ,
रास्ते भर बतियाते जाते, हर कौतूहल भरे प्रश्नों का उनसे उत्तर पाते ,
धीरे-धीरे बड़े होने पर, उनकी साइकिल चलाने की कोशिश करते,
गिरते ,चोटिल होते, फिर भी ना छोड़ते ,
गिर- गिर कर संभलते, कोशिश करते रहते,
फिर कैंची चालन में सफल हो,
विजयी मुस्कान बिखेरते,
मेरी शरारत पर वे कभी नही डाँटते, बल्कि
मुझे प्यार से समझाते ,
उनकी छोटी-छोटी सीखों मे छुपी बड़ी बड़ी बातें, अब समझ में आतीं है ,
जब भी मुझे बचपन मे कही,
उनकी बातें याद आतीं हैं ,
मेरे लिए मेरे पिता,
मेरे आत्मविश्वास का संबल ,
मेरे रक्षक , मेरे शिक्षक ,
मेरे पथ प्रदर्शक बने रहे ,
परिस्थितियों एवं संकटों से जूझने वाले
पुरुषार्थ की मूर्ति बने रहे ,
उनका शांत एवं गंभीर स्वभाव,
समस्याओं को हल करने की उनकी
प्रखर प्रज्ञा शक्ति,
परिवार के प्रति उनका
अगाध प्रेम एवं समर्पित भाव ,
एवं उनके तेजोमय
व्यक्तित्व की प्रेरणा शक्ति,
उनके पोषित संस्कारों, मानवीय मूल्यों का
मेरे चारित्रिक विकास में योगदान,
अटूट पारिवारिक रिश्तों के निर्वाह में उनका आत्मबलिदान ,
कभी भुला ना पाऊँगा ,
मैं अकिंचन पुत्र, अपने पितृ ऋण से,
कभी मुक्त ना हो पाऊँगा ।

रचनाकार : श्यामसुंदर सुब्रमण्यन्
बैंगलुरु कर्नाटका

23 Likes · 41 Comments · 200 Views
You may also like:
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
मां
हरीश सुवासिया
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
*पंडित ज्वाला प्रसाद मिश्र और आर्य समाज-सनातन धर्म का विवाद*
Ravi Prakash
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
नजरों की तलाश
Dr. Alpa H. Amin
जीवन
Mahendra Narayan
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H. Amin
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
Loading...