Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2022 · 1 min read

पितृ ऋण

याद आते है, बचपन के वो दिन, जब उनकी उँगली पकड़ हम सैर पर जाते ,
रास्ते भर बतियाते जाते, हर कौतूहल भरे प्रश्नों का उनसे उत्तर पाते ,
धीरे-धीरे बड़े होने पर, उनकी साइकिल चलाने की कोशिश करते,
गिरते ,चोटिल होते, फिर भी ना छोड़ते ,
गिर- गिर कर संभलते, कोशिश करते रहते,
फिर कैंची चालन में सफल हो,
विजयी मुस्कान बिखेरते,
मेरी शरारत पर वे कभी नही डाँटते, बल्कि
मुझे प्यार से समझाते ,
उनकी छोटी-छोटी सीखों मे छुपी बड़ी बड़ी बातें, अब समझ में आतीं है ,
जब भी मुझे बचपन मे कही,
उनकी बातें याद आतीं हैं ,
मेरे लिए मेरे पिता,
मेरे आत्मविश्वास का संबल ,
मेरे रक्षक , मेरे शिक्षक ,
मेरे पथ प्रदर्शक बने रहे ,
परिस्थितियों एवं संकटों से जूझने वाले
पुरुषार्थ की मूर्ति बने रहे ,
उनका शांत एवं गंभीर स्वभाव,
समस्याओं को हल करने की उनकी
प्रखर प्रज्ञा शक्ति,
परिवार के प्रति उनका
अगाध प्रेम एवं समर्पित भाव ,
एवं उनके तेजोमय
व्यक्तित्व की प्रेरणा शक्ति,
उनके पोषित संस्कारों, मानवीय मूल्यों का
मेरे चारित्रिक विकास में योगदान,
अटूट पारिवारिक रिश्तों के निर्वाह में उनका आत्मबलिदान ,
कभी भुला ना पाऊँगा ,
मैं अकिंचन पुत्र, अपने पितृ ऋण से,
कभी मुक्त ना हो पाऊँगा ।

रचनाकार : श्यामसुंदर सुब्रमण्यन्
बैंगलुरु कर्नाटका

Language: Hindi
Tag: कविता
23 Likes · 44 Comments · 451 Views
You may also like:
अतीत का अफसोस क्या करना।
पीयूष धामी
आस और विश्वास।
लक्ष्मी सिंह
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
अन्नदाता किसान
Shekhar Chandra Mitra
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
Daily Writing Challenge: त्याग
'अशांत' शेखर
नाम
Ranjit Jha
अंतर्मन के दीप
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तस्वीरे मुहब्बत
shabina. Naaz
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
मैने देखा है
Anamika Singh
दफन
Dalveer Singh
हमने की वफा।
Taj Mohammad
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
Security Guard
Buddha Prakash
पता नहीं तुम कौनसे जमाने की बात करते हो
Manoj Tanan
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
*कृष्ण*【कुंडलिया】
Ravi Prakash
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
आपकी याद हो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...