Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2022 · 1 min read

पिता की अभिलाषा

पिता की अभिलाषा
~~°~~°~~°
शिकायत नहीं जग से मुझको ,
बस तेरे खुशी को ही तो जीता हूँ ।
तुझे स्नेह भरा अमिय सागर देकर मैं ,
युगों-युगों से हलाहल पीता हूँ ।

तुम रहो सदा खुशहाल वतन को ,
इसलिए मैं कुछ-कुछ आहें भरता हूँ ।
तुम जियो हजारों साल प्रिय सुत ,
ख़्वाबों में बस,तेरे ही सपने संजोता हूँ।

होठों पर तेरा, रहे मुस्कान सदा जो ,
इसलिए परेशान मैं, कुछ कुछ रहता हूँ ।
होता नहीं कोई थकान मुझे तब ,
जब स्वच्छंद उड़ान करता,मैं तुझे पाता हूँ ।

प्रबल धार नैया, डगमग न हो जाए ,
इसलिए पतवार मैं थामें रहता हूँ ।
साहिल पर तुझे लाना,कर्तव्य मेरा है ,
पग-पग बाधाओं से नहीं डरता हूँ ।

श्रद्धांजलि बनने को,मेरा तन जब ,
मृत्युशैय्या पर लेटा,तुझे स्मरण करे ।
दौड़े चले आना, कहीं रहो पुत्र तुम ,
अंतिम स्नेह सुमन,पिता अर्पण जो करे।

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०५ /०५ /२०२२

Language: Hindi
Tag: कविता
14 Likes · 27 Comments · 849 Views
You may also like:
भगत सिंह ; जेल डायरी
Gouri tiwari
*तिरंगा लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
हेमन्त दा पे दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुकम्मल ना होते है।
Taj Mohammad
जैसी करनी वैसी भरनी
Ashish Kumar
खैरियत का जवाब आया
Seema 'Tu hai na'
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
//... मेरी भाषा हिंदी...//
Chinta netam " मन "
पसंदीदा व्यक्ति के लिए.........
Rahul Singh
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
किसी को भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दीप बनकर जलो तुम
surenderpal vaidya
इमोजी है तो सही यार...!
प्रणय प्रभात
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
तन्हाँ महफिल को सजाऊँ कैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
" नोट "
Dr Meenu Poonia
Loading...