Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#20 Trending Author
Apr 24, 2022 · 1 min read

# पिता …

# पिता …

घर की कुछ/सारी ,
जिम्मेदारियों को संभालता ,
करता सारी व्यवस्था
जीवन निर्वाह का …!
चाहे वो फकीरा हो
या हो वो लखपतिया …!

चौके के एक कोने में
दुपके बैठा देखता
बड़े ही तसल्ली से
अपने-अपनों को
रात का खाना खाते हुए
एक साथ बैठे हुए …!

छुट्टी के दिन ,
घर से बाहर निकलते ही
कहां जा रहे हो …?
बड़े ही सहजता से
समझ सकते हो ,
कौन हो सकती है…?
और तो और
साथ में ये लेते आना ,
वो लेते आना …!

छिपा होता है ,
उसके अंदर एक डॉन
अपनी बेटी के लिए
बनता है वो ,
अपने बेटे का लंगोटिया …!

इन बातों से बेखबर ,
घरवाले समझते उसको
कोल्हू का बैल , गधा
और जाने क्या-क्या …!

दुनिया में दुनियादारी
के सिक्के चलाने ,
कैसे-कैसे रूप धरे ,
बनता है वो बहिरूपिया …!

आम चूसता हुआ वह ,
उन सबको लगता ,
पिता तो आज-कल के
होते हैं परम चुतिया …!

चिन्ता नेताम ” मन ”
डोंगरगांव (छ. ग.)

8 Likes · 12 Comments · 183 Views
You may also like:
माई री [भाग२]
Anamika Singh
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
When I missed you.
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
नवगीत -
Mahendra Narayan
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कुछ ना रहा
Nitu Sah
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
शासन वही करता है
gurudeenverma198
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
तुमसे इश्क कर रहे हैं।
Taj Mohammad
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कभी कभी।
Taj Mohammad
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
I feel h
Swami Ganganiya
तेरे होने का अहसास
Dr. Alpa H. Amin
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
Loading...