Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2022 · 1 min read

# पिता …

# पिता …

घर की कुछ/सारी ,
जिम्मेदारियों को संभालता ,
करता सारी व्यवस्था
जीवन निर्वाह का …!
चाहे वो फकीरा हो
या हो वो लखपतिया …!

चौके के एक कोने में
दुपके बैठा देखता
बड़े ही तसल्ली से
अपने-अपनों को
रात का खाना खाते हुए
एक साथ बैठे हुए …!

छुट्टी के दिन ,
घर से बाहर निकलते ही
कहां जा रहे हो …?
बड़े ही सहजता से
समझ सकते हो ,
कौन हो सकती है…?
और तो और
साथ में ये लेते आना ,
वो लेते आना …!

छिपा होता है ,
उसके अंदर एक डॉन
अपनी बेटी के लिए
बनता है वो ,
अपने बेटे का लंगोटिया …!

इन बातों से बेखबर ,
घरवाले समझते उसको
कोल्हू का बैल , गधा
और जाने क्या-क्या …!

दुनिया में दुनियादारी
के सिक्के चलाने ,
कैसे-कैसे रूप धरे ,
बनता है वो बहिरूपिया …!

आम चूसता हुआ वह ,
उन सबको लगता ,
पिता तो आज-कल के
होते हैं परम चुतिया …!

चिन्ता नेताम ” मन ”
डोंगरगांव (छ. ग.)

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 12 Comments · 410 Views
You may also like:
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
एक कसम
shabina. Naaz
आओ मनायें आजादी का पावन त्योहार
Anamika Singh
जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
खुशियाँ ही अपनी हैं
विजय कुमार अग्रवाल
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मंदिर
जगदीश लववंशी
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ख़्वाब भी चुभते है आंखों में।
Taj Mohammad
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
हमरा अप्पन निज धाम चाही...
मनोज कर्ण
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
करुणा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
*जिधर देखो उधर कुत्ते (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
आत्म ग्लानि
Shekhar Chandra Mitra
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
Ram Krishan Rastogi
आप कौन है
Sandeep Albela
Love never be painful
Buddha Prakash
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...