Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2022 · 1 min read

पिता

आँखों में कुछ स्वप्न सजाए, चल पड़ा वो नई राहों में,
ख्वाहिश थी एक कली खिले और महके उसके आँगन में।
हवाओं ने चुगली कर डाली, कह डाला ईश्वर के कानों में,
आँखों में अश्रु भर आए, जब पुत्री आई हाथों में।
बंधन उम्र भर टूट ना पाए, ऐसी कशिश थी नन्ही आँखों में,
उस मुस्कान पे जान लुटाना, आ गयी उसकी आदत में।
सदैव रहूँगा साथ तेरे, कोई काँटा चुभे ना पाँवों में,
लब पे ऐसे शब्द सजे और प्रण था सच्चा भावों में।
शिक्षा और नैतिकता को भरा अपनी बच्ची के संस्कारों में,
आधार बनाया स्वंय को ऐसा की उड़े वो स्वछंद संसारों में।
समय ने ऐसा खेल रचा, जो ना उसके ख्यालों में,
एक विध्वंशी गुपचुप आ बैठा, उसके हीं गलियारों में।
भ्रम का ऐसा जाल बिछा, वो फँस गया उसकी बातों में,
जान से प्यारी बच्ची को फ़िर, सौंपा उसके हाथों में।
अत्याचार हुए कुछ ऐसे जो दिखे, तन मन के घावों में,
मौन पड़ गयी उसकी चेतना और स्तब्धता आयी विचारों में।
पीड़ा पहुंची ऐसी मन को, रोया वो अंधकारों में,
माना स्वंय को दोषी ऐसा, खोया रोग के गलियारों में।
कहते हैं माँ कोमल होती और कठोरता होती पिता के भावों में,
उस स्नेह को अब मैं तोलूं कैसे, जो पड़ा बेबसी की बाहों में।

– मनीषा मंजरी
– दरभंगा (बिहार)

Language: Hindi
Tag: कविता
15 Likes · 14 Comments · 425 Views
You may also like:
भीगे भीगे मौसम में
कवि दीपक बवेजा
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद है कि वो मुझे .....।
J_Kay Chhonkar
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
धार छंद
Pakhi Jain
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
तिरंगा
Dr Archana Gupta
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
ये बारिश के मोती
Kaur Surinder
लेट्स मि लिव अलोन
gurudeenverma198
शिक्षा के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
धैर्य
लक्ष्मी सिंह
सामंत वादियों ने बिछा रखा जाल है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
* चांद बोना पड गया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
Loading...