Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 16, 2022 · 1 min read

पिता

आँखों में कुछ स्वप्न सजाए, चल पड़ा वो नई राहों में,
ख्वाहिश थी एक कली खिले और महके उसके आँगन में।
हवाओं ने चुगली कर डाली, कह डाला ईश्वर के कानों में,
आँखों में अश्रु भर आए, जब पुत्री आई हाथों में।
बंधन उम्र भर टूट ना पाए, ऐसी कशिश थी नन्ही आँखों में,
उस मुस्कान पे जान लुटाना, आ गयी उसकी आदत में।
सदैव रहूँगा साथ तेरे, कोई काँटा चुभे ना पाँवों में,
लब पे ऐसे शब्द सजे और प्रण था सच्चा भावों में।
शिक्षा और नैतिकता को भरा अपनी बच्ची के संस्कारों में,
आधार बनाया स्वंय को ऐसा की उड़े वो स्वछंद संसारों में।
समय ने ऐसा खेल रचा, जो ना उसके ख्यालों में,
एक विध्वंशी गुपचुप आ बैठा, उसके हीं गलियारों में।
भ्रम का ऐसा जाल बिछा, वो फँस गया उसकी बातों में,
जान से प्यारी बच्ची को फ़िर, सौंपा उसके हाथों में।
अत्याचार हुए कुछ ऐसे जो दिखे, तन मन के घावों में,
मौन पड़ गयी उसकी चेतना और स्तब्धता आयी विचारों में।
पीड़ा पहुंची ऐसी मन को, रोया वो अंधकारों में,
माना स्वंय को दोषी ऐसा, खोया रोग के गलियारों में।
कहते हैं माँ कोमल होती और कठोरता होती पिता के भावों में,
उस स्नेह को अब मैं तोलूं कैसे, जो पड़ा बेबसी की बाहों में।

– मनीषा मंजरी
– दरभंगा (बिहार)

14 Likes · 14 Comments · 266 Views
You may also like:
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
दरिया
Anamika Singh
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
शेर
dks.lhp
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
धुँध
Rekha Drolia
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...