Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“पिता”

मन की कोख में
बड़ा करते हैं
बच्चों को
मरते दम तक
पर प्रसव वेदना को
छुपा लेते हैं पिता
करके असीमित प्रेम
परिवार से
अल्प संसाधनों में
गुजारा करते हैं पिता
पूरा श्रेय देकर मां को
मन ही मन
मुस्कुराते हैं पिता
न्योछावर कर देते हैं
सब कुछ बच्चों पर
और अंत में अकेले
पड़ जाते हैं पिता
जब बच्चे करते हैं
अपने बच्चों की
परवरिश
तो कहते हैं
कितने अच्छे थे
हमारे पिता
=========
डॉ. रीतेश कुमार खरे ‘सत्य’
बरुआसागर झांसी

3 Likes · 2 Comments · 85 Views
You may also like:
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
"शौर्य"
Lohit Tamta
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
कोई कासिद।
Taj Mohammad
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
कब आओगे
dks.lhp
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
*कृष्ण जैसा मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश तुम
Dr fauzia Naseem shad
"अल्मोड़ा शहर"
Lohit Tamta
ग़ज़ल
kamal purohit
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
अजब रिकार्ड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️कमाल ये है...✍️
'अशांत' शेखर
शिकायत कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
मय्यत पर मेरी।
Taj Mohammad
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...