Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

पिता

हा मैं पिता हूँ
अपने बच्चों को संस्कार देना चाहता हूँ
उनको एक सुखमय हंसी -खुशी संसार देना चाहता हूँ
मैं चाहता हूँ वो पढें
हर मुश्किल से दूर निरंतर आगे बढें।
बच्चों के खातिर मुश्किलों से लड़ना जानता हूँ
इसे ही अपना सौभाग्य मानता हूँ
विकट दर विकट परिस्थिति के सम्मुख अड़ जाता हूँ
चोट खाता हूँ गीरता हू किन्तु आगे बढ जाता हूँ
बच्चों के लिए मुश्किलों से लड़ना ।
मैने अपने पिता से जाना है
यहीं कारण जो प्रथम गुरु उन्हें ही माना है
उनके चरणों को अपना संसार जानता हूँ
उन्हें हीं अपना भगवान मानता हूँ।
मै प्यारा करता हूँ अपने बच्चों से किन्तु दिखाता नहीं
जीवन में कुछ भी गलत करें ऐसा उन्हें सिखाता नहीं।
मैं चाहता हूँ वे संस्कारी बने, वैभवशाली हों
मैं चाहता हूँ वे संघर्षशील व आज्ञाकारी हों
खलनायक नहीं वो नायक बनें
स्थिति जैसी भी हो उससे लड़ने लायक बने
बस कारण इतना ही जो मैं रुग्ण हूँ कठोर हूँ
बच्चों के लिए दारुण दुख मैं सहता हूँ
चुप ही रहता हूँ
नहीं किसी से कहता हूँ।
बच्चो की खुशी में खुश हो जाता हूँ
उन्हीं के सुख में अपना सुख मै पाता हूँ।
बच्चों का सुखद भविष्य ही अपना संसार है
मेरा हीं नहीं “सचिन” हर पिता का यहीं तो अरमान है।।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
4/9/2017

246 Views
You may also like:
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
Loading...