Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 26, 2022 · 1 min read

पिता

उंगली पकड़ कर चलना सिखाया,
सही क्या ,गलत क्या , सब कुछ बताया।
थके जब कदम लड़खड़ा कर जमीं पर,
पिता ही तो थे, जिसने हमको उठाया।

आसां नहीं थे डगर इस सफर के,
थी मुश्किल बड़ी इस गली इस शहर में।
मगर इन सभी से हां लड़ना सिखाया,
पिता ही तो थे, जिसने हमको संभाला।

कभी रूठ जाती, कभी टूट जाती,
कभी छोटी बातों में ही उलझ जाती,
मगर उलझनों से सुलझना सिखाया,
पिता ही तो थे, जिसने हमको बनाया।

पढूंगी, लिखूंगी, हां कुछ तो बनूंगी,
नये हौसलों संग आसमां में उडूंगी।
नये स्वप्न संग हां कदम जब बढ़ाया,
पिता ही तो थे ,जिसने उड़ना सिखाया।

वन्दना नामदेव
अकोला, महाराष्ट्र

मेरी रचना स्वरचित एवं मौलिक है।

4 Likes · 4 Comments · 103 Views
You may also like:
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
थक चुकी ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
ज़िंदगी मौत पर खत्म होगी
Dr fauzia Naseem shad
अब मै भी जीने लगी हूँ
Anamika Singh
दो जून की रोटी।
Taj Mohammad
Accept the mistake
Buddha Prakash
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
कशमकश
Anamika Singh
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
✍️पवित्र गीता✍️
'अशांत' शेखर
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
लगा हूँ...
Sandeep Albela
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
दोस्त
लक्ष्मी सिंह
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
सफर में।
Taj Mohammad
गुरुर
Annu Gurjar
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुझे देखूं सुबह शाम।
Taj Mohammad
होता नहीं अब मुझसे
gurudeenverma198
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
पवित्र
rkchaudhary2012
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
" सच का दिया "
DESH RAJ
Loading...