Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 23, 2022 · 1 min read

पिता

“पिता” – काव्य प्रतियोगिता एवं काव्य संग्रह

“पिता”

पिता वो शिव है
जो जीवन का मंथन कर
परिवार के कष्टों का विष
स्वयं धारण कर
सुख वैभव रूपी अमृत
अपनी संतान को देता है…

पिता वो गहरा सागर है
जो अपने हृदय की
अथाह गहराईयों में छिपे
मुक्तामणि रूपी आशीर्वाद से
औलाद को जिंदगी की विषमताओं से
सुरक्षित रखता है…

पिता वो पारस है जिसे छूने भर से
संतति सोना हो जाती है…
पिता सब्र का घूंट पी कर
परिवार को एक सूत्र में पिरो
अनुशासित और सुसंस्कृत कर
कर्मपथ पर अडिग रहता है…

****

नेहा शर्मा ‘नेह’
मोहाली, पंजाब

3 Likes · 5 Comments · 171 Views
You may also like:
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पापा
सेजल गोस्वामी
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
पिता
Shailendra Aseem
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...