Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

पिता

पिता आकाश है,
बरगद की छाँव है।
पिता उम्मीद है,
खुशियों का गाँव है।
पिता आस है,
वो है तो……
सारी दुनिया पास है!
पिता होली है, दिवाली है,
उसीसे घर के गालों की लाली है,
पिता सुबह की कड़क चाय की प्याली है,
भले,वह अपनी ही ज़ेब की तरह खाली है!!
पिता आँखों की हँसी, होठों की मुस्कान है,
बच्चों पर उसकी फटी झोली कुर्बान है।
पिता ईंट है, मिट्टी है, गारा है, मसाला है
उसीसे घर शिवाला है।
पिता शिव है-
घर बचाने को खुद ही पी जाता विष का प्याला है!!!

कुमार अविनाश केसर
RKHS बड़कागाँव, मड़वन,
मुजफ्फरपुर, बिहार

4 Likes · 5 Comments · 69 Views
You may also like:
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Arvind trivedi
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
✍️✍️नींद✍️✍️
"अशांत" शेखर
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H. Amin
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
अरदास
Buddha Prakash
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
O brave soldiers.
Taj Mohammad
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
Loading...