Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 7, 2022 · 1 min read

पिता

मुसल्सल ग़ज़ल-
रहे मुस्कान चेहरों पर तो अपनी हर ख़ुशी दे दी
हमारे हो हसीं लम्हे पिता ने ज़िंदगी दे दी

कहीं ये वक़्त मुझको छोड़ कर आगे न हो जाये
तभी मेरी कलाई के लिए अपनी घड़ी दे दी

जो देखी प्यास होठों पर हमारे आपने जिस दम
लबों1 पर फिर हमारे ला के इक पूरी नदी दे दी

बचाया है मुसीबत से लड़े हर एक मुश्किल से
शजर2 सा धूप में रहकर हमें छाया घनी दे दी

‘अनीस’ अब राह में क़ाइम रहेगी तीरगी3 कैसे
रहे रौशन सफ़र तो आँख की भी रौशनी दे दी
– अनीस शाह ‘अनीस’
साईंखेड़ा म प्र
मो. 8319681285
1.ओठों 2.पेड़ 3.अँधेरा

4 Likes · 3 Comments · 113 Views
You may also like:
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
"अशांत" शेखर
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यह दुनिया है कैसी
gurudeenverma198
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
वक़्त
Mahendra Rai
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
✍️माय...!✍️
"अशांत" शेखर
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अनोखी सीख
DESH RAJ
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
Loading...