Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 4, 2022 · 1 min read

पिता

हर गम उठता है फिर भी ओ मुस्कुराता है
इस धरती पर देव तुल्य ओ पिता कहलाता है

कठीन परिश्रम कर के भी ओ नहीं थकता
हरदम बच्चों की राह ओ तकता
रूठे अगर तो हँस के ओ मनाता है
इस धरती पर देव तुल्य ओ पिता कहलाता है

दर्द उसे महसूस नहीं होता है
गम में भी ओ कभी नहीं रोता है
हर दुर्गुण से हमे ओ बचाता है
इस धरती पर देव तुल्य ओ पिता कहलाता है

हम हो जाएं कामयाब अगर
पूरे हो जाएं हमारे ख्वाब अगर
हम से ज्यादा ओ खुश हो जाता है
इस धरती पर देव तुल्य ओ पिता कहलाता है

बिन मांगे सब कुछ लाता है
और प्यार से गले लगाता है
देख जिसे बच्चों को चैन आता है
इस धरती पर देव तुल्य ओ पिता कहलाता है.
समाप्त
———
राजीव विशाल (रोहतासी)
मो-8210666825
9103279819

3 Likes · 3 Comments · 100 Views
You may also like:
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
पिता
Saraswati Bajpai
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
कल्पना
Anamika Singh
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
मां-बाप
Taj Mohammad
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
तलाश
Dr. Rajeev Jain
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...