Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 30, 2022 · 1 min read

पिता

पिता

रहता है सदा हाँथ सर पे
धूप से बचाता छाता जैसे
कठोर भी है कोमल भी वो
नारियल के ऐसे रहता जैसे

कमी नहीं होने देते कुछ भी
चाहे जैसे हो करते सबकुछ
आभास नहीं होने देते है
अंदर ही सहते सबकुछ

पिता ही है हमारी पहचान
जो बनाते जीवन को आधार
हर पल हमारा साथ वो देते
करते हमारे जीवन को साकार

धूप में ऐसे ठण्डी छाया जैसे
देते हमारे जीवन को आकार
हर पल हमारा साथ वो देते
रहता है हमसे ही सरोकार

सोहबत है उनका हर समय
बच्चों पे रहता उनका करम
प्यार स्नेह भरपूर भरा दिल
यही मानते वो उनका धरम

नाम-ममता रानी
दुमका,झारखंड

31 Likes · 47 Comments · 340 Views
You may also like:
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
कवि
Vijaykumar Gundal
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
Loading...