Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 27, 2022 · 1 min read

पिता

पहचान, आन-बान व सम्मान पिता हैं
होठों पे थिरकती हुई मुस्कान पिता हैं

चन्दन की तरह पाक व गंगा सी विमलता
भगवान के भेजे हुए वरदान पिता हैं

अपनी न कोई फ़िक्र, न चिन्ता, न ज़रूरत
बच्चों के मगर वास्ते धनवान पिता हैं

मुश्किल हैं कभी, तो कभी आसान पिता हैं
अफ़साना ज़िन्दगी है तो उनवान पिता हैं

संता क्लाज बन के जो बच्चों के होंठ पर
क्रिसमस की रात बाँटते मुस्कान पिता हैं

रब माफ़ करे, एक ही मालिक है जगत का
धरती पे मगर दूसरे भगवान पिता हैं

आओ ‘असीम’ चल के दुआ मांग लें उनसे
जन्नत के रास्ते के निगहबान पिता हैं

✍️ शैलेन्द्र ‘असीम’
रोहुआ मछरगावां, कुशीनगर

9 Likes · 14 Comments · 282 Views
You may also like:
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
शेर राजा
Buddha Prakash
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
Loading...