Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author
Apr 26, 2022 · 1 min read

‘पिता’ हैं ‘परमेश्वरा……..

घर एक मंदिर, जैसे हो मंदिर में मूर्ति भगवान की
वैसे घरमें हैं प्रत्यक्ष परमेश्वर पिताजी…
जो बिन कहे सुने हमारे ‘मन’ की…!
हैं वो चट्टान स्थिरता की… जो…
कभी नहीं हिलती, हैं उपमा ‘पहाड़ो’ की…!!

गहराई हैं जैसे समुंदर की, समाये कई दर्द,
भावना, स्नेह की ‘धारा’ कई…!
होता हैं दर्द संतान को कभी, वो…
बन जाता जैसे ढ़ाल ‘सुरक्षा’ की…!!

हैं किरदार उनका ‘विधाता’ जैसा,
वो सँवारता ‘किश्मत’ संतानों की….!
विशालता हैं जैसे हो ‘अंबर’ की,
परिवार के हर एक पहलु की
करता परवाह हरधड़ी…..
देता छत्रछाया ‘सुख’ और ‘दुःख’ में कई…!!

सहनशीलता का हैं वो तो ‘बादशाह’
जैसे हैं ‘वसुंधरा’ की धीरता..!
कई कष्टों का दमन अपने भीतर ही दबा देता,
फिर… भी कभी न आँखोंमें बहती धारा आंसू की…!!

मनोबल हैं ‘पंछी’ की तरह हर हाल में ‘मंजिल’ को छुता
सपना औलाद का… हांसिल वो करवाता….!
बुलंद ‘हौंसला’ हैं रखता… उम्मीदों को सजाकर
जीवन की गुणवत्ता समझाता..!!

खुद को ‘न्यौछावर’ कर, संतान की ‘हसरतों’ को
सचमें उच्चता के शिखरो की ‘सैर’ कराता…!!
रहे सलामत करें हम दुआ हैं रब से यही “प्रार्थना”……..
पिता’ हैं ‘परमेश्वरा’…. ‘नमन’ आपकी ‘कुर्बानी’
और… ‘संधर्ष’ को सदा…!!!

डॉ. अल्पा. एच. अमीन
गुजरात (अमदाबाद )

4 Likes · 4 Comments · 134 Views
You may also like:
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
लड़ते रहो
Vivek Pandey
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
फास्ट फूड
Utsav Kumar Vats
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
प्रार्थना
Anamika Singh
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
"अशांत" शेखर
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
Loading...